mujh se banta hua tu tujh ko banata hua main | मुझ से बनता हुआ तू तुझ को बनाता हुआ मैं - Ammar Iqbal

mujh se banta hua tu tujh ko banata hua main
geet hota hua tu geet sunaata hua main

ek kooze ke tasavvur se jude ham dono
naqsh deta hua tu chaak ghumaata hua main

tum banaao kisi tasveer mein koi rasta
main banata hoon kahi door se aata hua main

ek tasveer ki takmeel ke ham do pahluu
rang bharta hua tu rang banata hua main

mujh ko le jaaye kahi door bahaati hui tu
tujh ko le jaaun kahi door udaata hua main

ik ibaarat hai jo tahreer nahin ho paai
mujh ko likhta hua tu tujh ko mitaata hua main

mere seene mein kahi khud ko chhupata hua tu
tere seene se tira dard churaata hua main

kaanch ka ho ke mere aage bikharta hua tu
kirchiyon ko tiri palkon se uthaata hua main

मुझ से बनता हुआ तू तुझ को बनाता हुआ मैं
गीत होता हुआ तू गीत सुनाता हुआ मैं

एक कूज़े के तसव्वुर से जुड़े हम दोनों
नक़्श देता हुआ तू चाक घुमाता हुआ मैं

तुम बनाओ किसी तस्वीर में कोई रस्ता
मैं बनाता हूँ कहीं दूर से आता हुआ मैं

एक तस्वीर की तकमील के हम दो पहलू
रंग भरता हुआ तू रंग बनाता हुआ मैं

मुझ को ले जाए कहीं दूर बहाती हुई तू
तुझ को ले जाऊँ कहीं दूर उड़ाता हुआ मैं

इक इबारत है जो तहरीर नहीं हो पाई
मुझ को लिखता हुआ तू तुझ को मिटाता हुआ मैं

मेरे सीने में कहीं ख़ुद को छुपाता हुआ तू
तेरे सीने से तिरा दर्द चुराता हुआ मैं

काँच का हो के मिरे आगे बिखरता हुआ तू
किर्चियों को तिरी पलकों से उठाता हुआ मैं

- Ammar Iqbal
13 Likes

DP Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ammar Iqbal

As you were reading Shayari by Ammar Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Ammar Iqbal

Similar Moods

As you were reading DP Shayari Shayari