rah-ravi hai na rahnumaai hai | रह-रवी है न रहनुमाई है - Anand Narayan Mulla

rah-ravi hai na rahnumaai hai
aaj daur-e-shikasta-paai hai

aql le aayi zindagi ko kahaan
ishq-e-naadaan tiri duhaai hai

hai ufuq dar ufuq rah-e-hasti
har rasai mein na-rasaai hai

shikwe karta hai kya dil-e-naakaam
aashiqi kis ko raas aayi hai

ho gai gum kahaan sehar apni
raat ja kar bhi raat aayi hai

jis mein ehsaas ho aseeri ka
vo rihaai koi rihaai hai

kaarwaan hai khud apni gard mein gum
paanv ki khaak sar pe aayi hai

ban gai hai vo iltijaa aansu
jo nazar mein samaa na paai hai

barq naahak chaman mein hai badnaam
aag phoolon ne khud lagaaee hai

vo bhi chup hain khamosh hoon main bhi
ek naazuk si baat aayi hai

aur karte hi kya mohabbat mein
jo padi dil pe vo uthaai hai

naye saafi mein ho na aalaish
yahi mulla ki paarsaai hai

रह-रवी है न रहनुमाई है
आज दौर-ए-शिकस्ता-पाई है

अक़्ल ले आई ज़िंदगी को कहाँ
इश्क़-ए-नादाँ तिरी दुहाई है

है उफ़ुक़ दर उफ़ुक़ रह-ए-हस्ती
हर रसाई में ना-रसाई है

शिकवे करता है क्या दिल-ए-नाकाम
आशिक़ी किस को रास आई है

हो गई गुम कहाँ सहर अपनी
रात जा कर भी रात आई है

जिस में एहसास हो असीरी का
वो रिहाई कोई रिहाई है

कारवाँ है ख़ुद अपनी गर्द में गुम
पाँव की ख़ाक सर पे आई है

बन गई है वो इल्तिजा आँसू
जो नज़र में समा न पाई है

बर्क़ नाहक़ चमन में है बदनाम
आग फूलों ने ख़ुद लगाई है

वो भी चुप हैं ख़मोश हूँ मैं भी
एक नाज़ुक सी बात आई है

और करते ही क्या मोहब्बत में
जो पड़ी दिल पे वो उठाई है

नए साफ़ी में हो न आलाइश
यही 'मुल्ला' की पारसाई है

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari