jahaan ko abhi taab-e-ulfat nahin hai | जहाँ को अभी ताब-ए-उल्फ़त नहीं है - Anand Narayan Mulla

jahaan ko abhi taab-e-ulfat nahin hai
bashar mein abhi aadmiyat nahin hai

takalluf agar hai haqeeqat nahin hai
tasannuo zabaan-e-mohabbat nahin hai

zaroori ho jis ke liye ek dozakh
vo mere tasavvur ki jannat nahin hai

mere dil mein ik to hai tujh se haseen-tar
mujhe ab tiri kuchh zaroorat nahin hai

mohabbat yaqeenan khilaaf-e-khirad hai
magar aql hi ik haqeeqat nahin hai

use ek betaabi-e-shauq samjho
taghaaful ka shikwa shikaayat nahin hai

mujhe kar ke chup koi kehta hai hans kar
unhen baat karne ki aadat nahin hai

kabhi ho sakega na mulla ka eemaan
jis eemaan mein dil ki nabuwwat nahin hai

जहाँ को अभी ताब-ए-उल्फ़त नहीं है
बशर में अभी आदमियत नहीं है

तकल्लुफ़ अगर है हक़ीक़त नहीं है
तसन्नो ज़बान-ए-मोहब्बत नहीं है

ज़रूरी हो जिस के लिए एक दोज़ख़
वो मेरे तसव्वुर की जन्नत नहीं है

मिरे दिल में इक तो है तुझ से हसीं-तर
मुझे अब तिरी कुछ ज़रूरत नहीं है

मोहब्बत यक़ीनन खिलाफ-ए-ख़िरद है
मगर अक़्ल ही इक हक़ीक़त नहीं है

उसे एक बेताबी-ए-शौक़ समझो
तग़ाफ़ुल का शिकवा शिकायत नहीं है

मुझे कर के चुप कोई कहता है हँस कर
उन्हें बात करने की आदत नहीं है

कभी हो सकेगा न 'मुल्ला' का ईमाँ
जिस ईमाँ में दिल की नबुव्वत नहीं है

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Jannat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Jannat Shayari Shayari