raaz-e-hasti tishna-e-ta'beer hai tere baghair | राज़-ए-हस्ती तिश्ना-ए-ता'बीर है तेरे बग़ैर - Anand Narayan Mulla

raaz-e-hasti tishna-e-ta'beer hai tere baghair
zindagi taqseer hi taqseer hai tere baghair

zeest ki har kaamyaabi bhi meri nazaron mein khaak
ek be-buniyaad si ta'aamir hai tere baghair

jis ko hona chahiye tha taaza-dam kaliyon ka haar
vo nafs ka silsila zanjeer hai tere baghair

haan wahi lab jo tabassum ka khazana tha kabhi
aaj rehan-e-naala-e-shab-geer hai tere baghair

dil ki haalat hai ki jaise ik tilism-e-be-kaleed
har tamannaa harf-e-be-ta'beer hai tere baghair

ho nahin paati koi aasaan si mushkil bhi sahal
kund sa har nakhoon-e-tadbeer hai tere baghair

chaand barsaata hai jab raaton ko amrit ki fuwaar
haan usi ki har ladi ik teer hai tere baghair

raushni us ke kisi rukh par bhi aa paati nahin
zindagi dhundli si ik tasveer hai tere baghair

aa agar begaana-e-ehsaas tera dil nahin
tera mulla khasta-o-dilgeer hai tere baghair

राज़-ए-हस्ती तिश्ना-ए-ता'बीर है तेरे बग़ैर
ज़िंदगी तक़्सीर ही तक़्सीर है तेरे बग़ैर

ज़ीस्त की हर कामयाबी भी मिरी नज़रों में ख़ाक
एक बे-बुनियाद सी ता'मीर है तेरे बग़ैर

जिस को होना चाहिए था ताज़ा-दम कलियों का हार
वो नफ़स का सिलसिला ज़ंजीर है तेरे बग़ैर

हाँ वही लब जो तबस्सुम का ख़ज़ाना था कभी
आज रेहन-ए-नाला-ए-शब-गीर है तेरे बग़ैर

दिल की हालत है कि जैसे इक तिलिस्म-ए-बे-कलीद
हर तमन्ना हर्फ़-ए-बे-ता'बीर है तेरे बग़ैर

हो नहीं पाती कोई आसान सी मुश्किल भी सहल
कुंद सा हर नाख़ुन-ए-तदबीर है तेरे बग़ैर

चाँद बरसाता है जब रातों को अमृत की फुवार
हाँ उसी की हर लड़ी इक तीर है तेरे बग़ैर

रौशनी उस के किसी रुख़ पर भी आ पाती नहीं
ज़िंदगी धुँदली सी इक तस्वीर है तेरे बग़ैर

आ अगर बेगाना-ए-एहसास तेरा दिल नहीं
तेरा 'मुल्ला' ख़स्ता-ओ-दिलगीर है तेरे बग़ैर

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari