dekha kuchh aaj yun kisi ghaflat-shi'aar ne | देखा कुछ आज यूँ किसी ग़फ़लत-शिआ'र ने - Anand Narayan Mulla

dekha kuchh aaj yun kisi ghaflat-shi'aar ne
main apni umr-e-rafta ko dauda pukaarne

hangaama-e-shabaab ki poncho na sar-guzasht
apne chaman ko loot liya khud bahaar ne

paikaan-e-teer zahar mein itne bujhe na the
kuchh aur kar diya hai nazar ko khumaar ne

tammat-b-khair dil ki shikaayat ki dastaan
honton ko si diya nigaah-e-sharmasaar ne

himmat padi na shaikh se kehne ki mohtasib
aaye ho ik gareeb pe gussa utaarne

vo to kaho ki aayi qafas tak bhi boo-e-gul
warna bhula diya tha hamein to bahaar ne

jo tang-e-gul the turra-e-dastaar ban gaye
jo gul the aaye turbat-e-be-kas sanwaarne

aaye ho kya tumheen mujhe awaaz do zara
aankhon ka noor cheen liya intizaar ne

aalaam-e-rozgaar se mulla ko kya garz
apna bana liya hai use chashm-e-yaar ne

देखा कुछ आज यूँ किसी ग़फ़लत-शिआ'र ने
मैं अपनी उम्र-ए-रफ़्ता को दौड़ा पुकारने

हंगामा-ए-शबाब की पोंछो न सर-गुज़श्त
अपने चमन को लूट लिया ख़ुद बहार ने

पैकान-ए-तीर ज़हर में इतने बुझे न थे
कुछ और कर दिया है नज़र को ख़ुमार ने

तम्मत-ब-ख़ैर दिल की शिकायत की दास्ताँ
होंटों को सी दिया निगह-ए-शर्मसार ने

हिम्मत पड़ी न शैख़ से कहने की मोहतसिब
आए हो इक ग़रीब पे ग़ुस्सा उतारने

वो तो कहो कि आई क़फ़स तक भी बू-ए-गुल
वर्ना भुला दिया था हमें तो बहार ने

जो तंग-ए-गुल थे तुर्रा-ए-दस्तार बन गए
जो गुल थे आए तुर्बत-ए-बे-कस सँवारने

आए हो क्या तुम्हीं मुझे आवाज़ दो ज़रा
आँखों का नूर छीन लिया इंतिज़ार ने

आलाम-ए-रोज़गार से 'मुल्ला' को क्या ग़रज़
अपना बना लिया है उसे चश्म-ए-यार ने

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Jalwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Jalwa Shayari Shayari