har jalwe pe nigaah kiye ja raha hoon main | हर जल्वे पे निगाह किए जा रहा हूँ मैं - Anand Narayan Mulla

har jalwe pe nigaah kiye ja raha hoon main
aankhon ko khizr-e-raah kiye ja raha hoon main

mitne na paaye taazgi-e-lazzat-e-gunaah
tauba bhi gaah gaah kiye ja raha hoon main

kaisi ye zindagi hai ki phir bhi hai shauq-e-zeest
gauhar-nafs ik aah kiye ja raha hoon main

ashkon ki mash'alon ko farozaan kiye hue
tay iltijaa ki raah kiye ja raha hoon main

khud jis ke saamne sipar-andaakhta hai husn
aisi bhi ik nigaah kiye ja raha hoon main

shaayad kabhi vo bhool ke rakhen idhar qadam
aankhon ko farsh-e-raah kiye ja raha hoon main

badhti hi ja rahi hain tiri kam-nigaahiyaan
kya dil mein tere raah kiye ja raha hoon main

zulmaat-e-dair-o-ka'ba mein kuchh raushni si hai
shaayad koi gunaah kiye ja raha hoon main

mulla har ek taaza museebat pe hans ke aur
kaj gosha-e-kulaah kiye ja raha hoon main

हर जल्वे पे निगाह किए जा रहा हूँ मैं
आँखों को ख़िज़्र-ए-राह किए जा रहा हूँ मैं

मिटने न पाए ताज़गी-ए-लज़्ज़त-ए-गुनाह
तौबा भी गाह गाह किए जा रहा हूँ मैं

कैसी ये ज़िंदगी है कि फिर भी है शौक़-ए-ज़ीस्त
गौहर-नफ़स इक आह किए जा रहा हूँ मैं

अश्कों की मशअ'लों को फ़रोज़ाँ किए हुए
तय इल्तिजा की राह किए जा रहा हूँ मैं

ख़ुद जिस के सामने सिपर-अंदाख़्ता है हुस्न
ऐसी भी इक निगाह किए जा रहा हूँ मैं

शायद कभी वो भूल के रक्खें इधर क़दम
आँखों को फ़र्श-ए-राह किए जा रहा हूँ मैं

बढ़ती ही जा रही हैं तिरी कम-निगाहियाँ
क्या दिल में तेरे राह किए जा रहा हूँ मैं

ज़ुलमात-ए-दैर-ओ-का'बा में कुछ रौशनी सी है
शायद कोई गुनाह किए जा रहा हूँ मैं

'मुल्ला' हर एक ताज़ा मुसीबत पे हँस के और
कज गोशा-ए-कुलाह किए जा रहा हूँ मैं

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari