jab dil mein zara bhi aas na ho izhaar-e-tamannaa kaun kare | जब दिल में ज़रा भी आस न हो इज़्हार-ए-तमन्ना कौन करे - Anand Narayan Mulla

jab dil mein zara bhi aas na ho izhaar-e-tamannaa kaun kare
armaan kiye dil hi mein fana armaan ko rusva kaun kare

khaali hai mera saaghar to rahe saaqi ko ishaara kaun kare
khuddaari-e-saail bhi to hai kuchh har baar taqaza kaun kare

jab apna dil khud le doobe auron pe sahaara kaun kare
kashti pe bharosa jab na raha tinkon pe bharosa kaun kare

aadaab-e-mohabbat mein bhi ajab do dil milne ko raazi hain
lekin ye takalluf haa'il hai pehla vo ishaara kaun kare

dil teri jafaa se toot chuka ab chashm-e-karam aayi bhi to kya
phir le ke isee toote dil ko ummeed dobara kaun kare

jab dil tha shagufta gul ki tarah tahni kaanta si chubhti thi
ab ek fasurda dil le kar gulshan ki tamannaa kaun kare

basne do nasheeman ko apne phir ham bhi karenge sair-e-chaman
jab tak ki nasheeman ujda hai phoolon ka nazaara kaun kare

ik dard hai apne dil mein bhi ham chup hain duniya na-waaqif
auron ki tarah dohraa dohraa kar us ko fasana kaun kare

kashti maujon mein daali hai marna hai yahin jeena hai yahin
ab toofaanon se ghabra kar saahil ka iraada kaun kare

mulla ka gala tak baith gaya bahri duniya ne kuchh na suna
jab sunne waala ho aisa rah rah ke pukaara kaun kare

जब दिल में ज़रा भी आस न हो इज़्हार-ए-तमन्ना कौन करे
अरमान किए दिल ही में फ़ना अरमान को रुस्वा कौन करे

ख़ाली है मिरा साग़र तो रहे साक़ी को इशारा कौन करे
ख़ुद्दारी-ए-साइल भी तो है कुछ हर बार तक़ाज़ा कौन करे

जब अपना दिल ख़ुद ले डूबे औरों पे सहारा कौन करे
कश्ती पे भरोसा जब न रहा तिनकों पे भरोसा कौन करे

आदाब-ए-मोहब्बत में भी अजब दो दिल मिलने को राज़ी हैं
लेकिन ये तकल्लुफ़ हाइल है पहला वो इशारा कौन करे

दिल तेरी जफ़ा से टूट चुका अब चश्म-ए-करम आई भी तो क्या
फिर ले के इसी टूटे दिल को उम्मीद दोबारा कौन करे

जब दिल था शगुफ़्ता गुल की तरह टहनी काँटा सी चुभती थी
अब एक फ़सुर्दा दिल ले कर गुलशन की तमन्ना कौन करे

बसने दो नशेमन को अपने फिर हम भी करेंगे सैर-ए-चमन
जब तक कि नशेमन उजड़ा है फूलों का नज़ारा कौन करे

इक दर्द है अपने दिल में भी हम चुप हैं दुनिया ना-वाक़िफ़
औरों की तरह दोहरा दोहरा कर उस को फ़साना कौन करे

कश्ती मौजों में डाली है मरना है यहीं जीना है यहीं
अब तूफ़ानों से घबरा कर साहिल का इरादा कौन करे

'मुल्ला' का गला तक बैठ गया बहरी दुनिया ने कुछ न सुना
जब सुनने वाला हो ऐसा रह रह के पुकारा कौन करे

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Jafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Jafa Shayari Shayari