jo shab-e-siyaah se dar gaye kisi shaam hi mein bhatk gaye | जो शब-ए-सियाह से डर गए किसी शाम ही में भटक गए - Anand Narayan Mulla

jo shab-e-siyaah se dar gaye kisi shaam hi mein bhatk gaye
wahi taajdaar-e-sehr bane jo siyaahiyo_n mein chamak gaye

na banaya munh kisi jaam par na lagaaya dil kisi jaam se
jo labon tak aaye vo pee liye jo chhalk gaye vo chhalk gaye

hai hayaat-e-jehad nafs nafs rah-e-aashiyaan hai qafas qafas
jo na nok-e-khaar pe chal sake rah-e-zindagi se bhatk gaye

tujhe kuchh khabar bhi hai mohtasib isee bazm mein tire saamne
ladein door hi se nigaahen kabhi yun bhi jaam khanak gaye

mere rahnuma-e-sukhan-sara kabhi mimbaron se utar zara
koi gaam raah-e-amal mein bhi tiri guftugoo se to thak gaye

hain na jaane kitne gul-e-haseen jo chhupaaye aariz-e-aatishi
liye apna saagar-e-ambareen kisi dasht hi mein mahak gaye

kahoon kya main zeest ki dastaan use yun samajh mere meherbaan
kabhi harf-e-bazm jo sun liya to nazar ke jaam chhalk gaye

rah-e-ilm shak ki hain seedhiyaan yahi zehan zinda ka hai nishaan
jise ikhtilaaf mein ho gumaan vo humeen na hon jo bahak gaye

na nazar mili na zabaan khuli chhupi phir bhi dil ki na bekli
kabhi door ja ke palat pade kabhi paas ja ke thithuk gaye

chali baad-e-jabr agar to kya mujhe yun jahaan na bujha saka
mujhe raas aayi yahi hua mera sholay aur bhadak gaye

mere zehn-o-dil ki baseeratein gham-e-zindagi ki haqeeqaten
mere lab pe geet nahin hain vo ki jo paayalon mein chanak gaye

sunen baam-e-hosh pe ja ke kyun tiri mulla aayat-e-be-maza
abhi koi ishq mein raat ko vo ghazal sooni ki fadak gaye

जो शब-ए-सियाह से डर गए किसी शाम ही में भटक गए
वही ताजदार-ए-सहर बने जो सियाहियों में चमक गए

न बनाया मुँह किसी जाम पर न लगाया दिल किसी जाम से
जो लबों तक आए वो पी लिए जो छलक गए वो छलक गए

है हयात-ए-जेहद नफ़स नफ़स रह-ए-आशियाँ है क़फ़स क़फ़स
जो न नोक-ए-ख़ार पे चल सके रह-ए-ज़िंदगी से भटक गए

तुझे कुछ ख़बर भी है मोहतसिब इसी बज़्म में तिरे सामने
लड़ें दूर ही से निगाहें कभी यूँ भी जाम खनक गए

मिरे रहनुमा-ए-सुख़न-सरा कभी मिम्बरों से उतर ज़रा
कोई गाम राह-ए-अमल में भी तिरी गुफ़्तुगू से तो थक गए

हैं न जाने कितने गुल-ए-हसीं जो छुपाए आरिज़-ए-आतिशीं
लिए अपना साग़र-ए-अम्बरीं किसी दश्त ही में महक गए

कहूँ क्या मैं ज़ीस्त की दास्ताँ उसे यूँ समझ मिरे मेहरबाँ
कभी हर्फ़-ए-बज़्म जो सुन लिया तो नज़र के जाम छलक गए

रह-ए-इल्म शक की हैं सीढ़ियाँ यही ज़ेहन ज़िंदा का है निशाँ
जिसे इख़्तिलाफ़ में हो गुमाँ वो हमीं न हों जो बहक गए

न नज़र मिली न ज़बाँ खुली छुपी फिर भी दिल की न बेकली
कभी दूर जा के पलट पड़े कभी पास जा के ठिठुक गए

चली बाद-ए-जब्र अगर तो क्या मुझे यूँ जहाँ न बुझा सका
मुझे रास आई यही हुआ मिरा शो'ले और भड़क गए

मिरे ज़ेहन-ओ-दिल की बसीरतें ग़म-ए-ज़िंदगी की हक़ीक़तें
मिरे लब पे गीत नहीं हैं वो कि जो पायलों में छनक गए

सुनें बाम-ए-होश पे जा के क्यूँ तिरी 'मुल्ला' आयत-ए-बे-मज़ा
अभी कोई इश्क़ में रात को वो ग़ज़ल सुनी कि फड़क गए

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari