meri baat ka jo yaqeen nahin mujhe aazma ke bhi dekh le | मिरी बात का जो यक़ीं नहीं मुझे आज़मा के भी देख ले - Anand Narayan Mulla

meri baat ka jo yaqeen nahin mujhe aazma ke bhi dekh le
tujhe dil to kab ka main de chuka use gham bana ke bhi dekh le

ye to theek hai ki tiri jafaa bhi ik ata mere vaaste
meri hasraton ki qasam tujhe kabhi muskuraa ke bhi dekh le

mera dil alag hai bujha sa kuchh tire husn par bhi chamak nahin
kabhi ek markaz-e-zeest par unhen saath la ke bhi dekh le

mere shauq ki hain wahi ziden abhi lab pe hai wahi iltijaa
kabhi is jale hue toor par mujhe phir bula ke bhi dekh le

na mitega naqsh-e-wafa kabhi na mitega haan na mitega ye
kisi aur ki to majaal kya use khud mita ke bhi dekh le

kisi gul-e-fasurda-e-baagh hoon mere lab hasi ko bhula chuke
tujhe ai saba jo na ho yaqeen mujhe gudguda ke bhi dekh le

mere dil mein tu hi hai jalva-gar tira aaina hoon main sar-basar
yoonhi door hi se nazar na kar kabhi paas aa ke bhi dekh le

mere zarf-e-ishq pe shak na kar mere harf-e-shauq ko bhool ja
jo yahi hijaab hai darmiyaan ye hijaab utha ke bhi dekh le

ye jahaan hai ise kya padi hai jo ye sune tiri dastaan
tujhe phir bhi mulla agar hai zid gham-e-dil suna ke bhi dekh le

मिरी बात का जो यक़ीं नहीं मुझे आज़मा के भी देख ले
तुझे दिल तो कब का मैं दे चुका उसे ग़म बना के भी देख ले

ये तो ठीक है कि तिरी जफ़ा भी इक अता मिरे वास्ते
मिरी हसरतों की क़सम तुझे कभी मुस्कुरा के भी देख ले

मिरा दिल अलग है बुझा सा कुछ तिरे हुस्न पर भी चमक नहीं
कभी एक मरकज़-ए-ज़ीस्त पर उन्हें साथ ला के भी देख ले

मिरे शौक़ की हैं वही ज़िदें अभी लब पे है वही इल्तिजा
कभी इस जले हुए तूर पर मुझे फिर बुला के भी देख ले

न मिटेगा नक़्श-ए-वफ़ा कभी न मिटेगा हाँ न मिटेगा ये
किसी और की तो मजाल क्या उसे ख़ुद मिटा के भी देख ले

किसी गुल-ए-फ़सुर्दा-ए-बाग़ हूँ मिरे लब हँसी को भुला चुके
तुझे ऐ सबा जो न हो यक़ीं मुझे गुदगुदा के भी देख ले

मिरे दिल में तू ही है जल्वा-गर तिरा आइना हूँ मैं सर-बसर
यूँही दूर ही से नज़र न कर कभी पास आ के भी देख ले

मिरे ज़र्फ़-ए-इश्क़ पे शक न कर मिरे हर्फ़-ए-शौक़ को भूल जा
जो यही हिजाब है दरमियाँ ये हिजाब उठा के भी देख ले

ये जहान है इसे क्या पड़ी है जो ये सुने तिरी दास्ताँ
तुझे फिर भी 'मुल्ला' अगर है ज़िद ग़म-ए-दिल सुना के भी देख ले

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari