farq jo kuchh hai vo mutarib mein hai aur saaz mein hai | फ़र्क़ जो कुछ है वो मुतरिब में है और साज़ में है - Anand Narayan Mulla

farq jo kuchh hai vo mutarib mein hai aur saaz mein hai
warna naghma wahi har parda-e-aawaaz mein hai

tarjumaan-e-gham-e-dil kaun hai ashkon ke siva
ik yahi taar-e-shikasta to mere saaz mein hai

murgh-e-aazaad asiroon ko hiqaarat se na dekh
in ki taqat bhi tire baazu-e-parvaaz mein hai

ek le de ke tamannaa hai so vo bhi naakaam
dil mein kya hai jo tiri jalwa-gah-e-naaz mein hai

dil ko deewaana samajh kar na bahut chhedo tum
kahi kuchh kah na uthe ye haram-e-raaz mein hai

फ़र्क़ जो कुछ है वो मुतरिब में है और साज़ में है
वर्ना नग़्मा वही हर पर्दा-ए-आवाज़ में है

तर्जुमान-ए-ग़म-ए-दिल कौन है अश्कों के सिवा
इक यही तार-ए-शिकस्ता तो मिरे साज़ में है

मुर्ग़-ए-आज़ाद असीरों को हिक़ारत से न देख
इन की ताक़त भी तिरे बाज़ू-ए-परवाज़ में है

एक ले दे के तमन्ना है सो वो भी नाकाम
दिल में क्या है जो तिरी जल्वा-गह-ए-नाज़ में है

दिल को दीवाना समझ कर न बहुत छेड़ो तुम
कहीं कुछ कह न उठे ये हरम-ए-राज़ में है

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari