gham ke baadal phir bhi chhaaye rah gaye | ग़म के बादल फिर भी छाए रह गए - Anand Narayan Mulla

gham ke baadal phir bhi chhaaye rah gaye
aankh se dariya ke dariya bah gaye

khauf-e-uqba aur is duniya ke ba'ad
vo bhi sah lenge jo ye gham sah gaye

kis ne dekha hai jamaal-e-roo-e-dost
sab naqaabon mein uljh kar rah gaye

mukhtasar thi daastaan-e-arz-e-shauq
bujh ke kuchh taare mizaa par rah gaye

zeest hai ik shaam afsaane ka naam
apni apni dastaan sab kah gaye

tab kahi ja kar mili sath-e-sukoon
doob kar jab gham mein tah-dar-tah gaye

vaar kar ke zeest bhaagi aur ham
aasteen apni chadhate rah gaye

chand shaitan band kar ke khush hain yun
jaise baahar sab farishte rah gaye

ashk ban paaye na gham ke tarjumaan
ye numaish hi mein apni rah gaye

zindagi se lad na paaya josh-e-dil
par bahut tole magar rah rah gaye

ashk the jab tak farozaan gham na tha
ab andhere mein akela rah gaye

jeben sab yaaron ne bhar leen bazm mein
ek mulla the jo yoonhi rah gaye

ग़म के बादल फिर भी छाए रह गए
आँख से दरिया के दरिया बह गए

ख़ौफ़-ए-उक़्बा और इस दुनिया के बा'द
वो भी सह लेंगे जो ये ग़म सह गए

किस ने देखा है जमाल-ए-रू-ए-दोस्त
सब नक़ाबों में उलझ कर रह गए

मुख़्तसर थी दास्तान-ए-अर्ज़-ए-शौक़
बुझ के कुछ तारे मिज़ा पर रह गए

ज़ीस्त है इक शाम अफ़्साने का नाम
अपनी अपनी दास्ताँ सब कह गए

तब कहीं जा कर मिली सत्ह-ए-सुकूँ
डूब कर जब ग़म में तह-दर-तह गए

वार कर के ज़ीस्त भागी और हम
आस्तीं अपनी चढ़ाते रह गए

चंद शैताँ बंद कर के ख़ुश हैं यूँ
जैसे बाहर सब फ़रिश्ते रह गए

अश्क बन पाए न ग़म के तर्जुमाँ
ये नुमाइश ही में अपनी रह गए

ज़िंदगी से लड़ न पाया जोश-ए-दिल
पर बहुत तोले मगर रह रह गए

अश्क थे जब तक फ़रोज़ाँ ग़म न था
अब अँधेरे में अकेले रह गए

जेबें सब यारों ने भर लीं बज़्म में
एक 'मुल्ला' थे जो यूँही रह गए

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari