khamoshi saaz hoti ja rahi hai | ख़मोशी साज़ होती जा रही है - Anand Narayan Mulla

khamoshi saaz hoti ja rahi hai
nazar awaaz hoti ja rahi hai

nazar teri jo ik dil ki kiran thi
zamaana-saaz hoti ja rahi hai

nahin aata samajh mein shor-e-hasti
bas ik awaaz hoti ja rahi hai

khamoshi jo kabhi thi parda-e-gham
yahi ghazmaaz hoti ja rahi hai

badi ke saamne neki abhi tak
sipar-andaaz hoti ja rahi hai

ghazal mulla tire sehr-e-bayaan se
ajab ejaz hoti ja rahi hai

ख़मोशी साज़ होती जा रही है
नज़र आवाज़ होती जा रही है

नज़र तेरी जो इक दिल की किरन थी
ज़माना-साज़ होती जा रही है

नहीं आता समझ में शोर-ए-हस्ती
बस इक आवाज़ होती जा रही है

ख़मोशी जो कभी थी पर्दा-ए-ग़म
यही ग़म्माज़ होती जा रही है

बदी के सामने नेकी अभी तक
सिपर-अंदाज़ होती जा रही है

ग़ज़ल 'मुल्ला' तिरे सेहर-ए-बयाँ से
अजब एजाज़ होती जा रही है

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari