hayaat ik saaz-e-be-sada thi surood-e-umr-e-ravaan se pehle | हयात इक साज़-ए-बे-सदा थी सुरूद-ए-उम्र-ए-रवाँ से पहले - Anand Narayan Mulla

hayaat ik saaz-e-be-sada thi surood-e-umr-e-ravaan se pehle
bashar ki taqdeer so rahi thi khata-e-baag-e-jinaan se pehle

nazar ne ki nazar-e-rooh-o-dil pesh-e-lab pe shor-e-fughaan se pehle
ada hua sajda-e-mohabbat kharosh-e-baang-e-azaan se pehle

badal gaya ishq ka zamaana kahaan se pahuncha kahaan fasana
unhen bhi mujh par zabaan aayi wahin jo the be-zabaan se pehle

kise khabar thi ki ban ke barq-e-ghazab girega yahi chaman par
vo husn jo muskuraa raha tha naqaab-e-abar-e-ravaan se pehle

sitam to shaayad main bhool jaata agar ye nashtar chubha na hota
vo ik nigah-e-karam jo ki thi nigaah-e-naa-mehrabaan se pehle

nazar hai veeraan meri to kya gham nazar ke jalwe to hain salaamat
na the tum itne haseen meri mohabbat-e-raayegaan se pehle

tiri taraf phir nazar karunga nishaat-e-hasti-e-jaavidaani
khareed luun lazzat-e-alam kuchh mata-e-umr-e-ravaan se pehle

bichhad gaye raah-e-zeest mein ham tumhein bhi is ka agar hai kuchh gham
chalen wahin se phir aao baaham chale the ham tum jahaan se pehle

qafas ki lohe ki teeliyaan ab unhin ki zarbon se khoon-chakaan hain
yahi jo the muntashir se tinke tasavvur-e-aashiyaan se pehle

chaman mein hansne se phir na rokunga guncha-e-saada-lauh tujh ko
magar zara aashna to ho ja tabeeyat-e-baagbaan se pehle

nazar ke sholay dilon mein ik aag har do jaanib laga chuke hain
bas ab to ye rah gaya hai baaki ki lau uthegi kahaan se pehle

na dhoondo mulla ko kaarwaan mein firega sehra mein vo akela
kisi sabab se jo taa-b-manzil na aa saka kaarwaan se pehle

हयात इक साज़-ए-बे-सदा थी सुरूद-ए-उम्र-ए-रवाँ से पहले
बशर की तक़दीर सो रही थी ख़ता-ए-बाग़-ए-जिनाँ से पहले

नज़र ने की नज़र-ए-रूह-ओ-दिल पेश-ए-लब पे शोर-ए-फ़ुग़ाँ से पहले
अदा हुआ सज्दा-ए-मोहब्बत ख़रोश-ए-बांग-ए-अज़ाँ से पहले

बदल गया इश्क़ का ज़माना कहाँ से पहुँचा कहाँ फ़साना
उन्हें भी मुझ पर ज़बान आई वही जो थे बे-ज़बाँ से पहले

किसे ख़बर थी कि बन के बर्क़-ए-ग़ज़ब गिरेगा यही चमन पर
वो हुस्न जो मुस्कुरा रहा था नक़ाब-ए-अबर-ए-रवाँ से पहले

सितम तो शायद मैं भूल जाता अगर ये नश्तर चुभा न होता
वो इक निगाह-ए-करम जो की थी निगाह-ए-ना-मेहरबाँ से पहले

नज़र है वीराँ मिरी तो क्या ग़म नज़र के जल्वे तो हैं सलामत
न थे तुम इतने हसीं मिरी मोहब्बत-ए-राएगाँ से पहले

तिरी तरफ़ फिर नज़र करूँगा निशात-ए-हस्ती-ए-जाविदानी
ख़रीद लूँ लज़्ज़त-ए-अलम कुछ मता-ए-उम्र-ए-रवाँ से पहले

बिछड़ गए राह-ए-ज़ीस्त में हम तुम्हें भी इस का अगर है कुछ ग़म
चलें वहीं से फिर आओ बाहम चले थे हम तुम जहाँ से पहले

क़फ़स की लोहे की तीलियाँ अब उन्हीं की ज़र्बों से ख़ूँ-चकाँ हैं
यही जो थे मुंतशिर से तिनके तसव्वुर-ए-आशियाँ से पहले

चमन में हँसने से फिर न रोकूँगा गुंचा-ए-सादा-लौह तुझ को
मगर ज़रा आश्ना तो हो जा तबीअत-ए-बाग़बाँ से पहले

नज़र के शो'ले दिलों में इक आग हर दो जानिब लगा चुके हैं
बस अब तो ये रह गया है बाक़ी कि लौ उठेगी कहाँ से पहले

न ढूँडो 'मुल्ला' को कारवाँ में फिरेगा सहरा में वो अकेला
किसी सबब से जो ता-ब-मंज़िल न आ सका कारवाँ से पहले

- Anand Narayan Mulla
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Narayan Mulla

As you were reading Shayari by Anand Narayan Mulla

Similar Writers

our suggestion based on Anand Narayan Mulla

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari