sitam hai apna kisi ne bana ke loot liya | सितम है अपना किसी ने बना के लूट लिया - Anwar Taban

sitam hai apna kisi ne bana ke loot liya
meri nazar se nazar ko mila ke loot liya

hareem-e-naaz ke parde mein jo nihaan tha kabhi
usi ne shokh adaayein dikha ke loot liya

raha na hosh mujhe us ke ba'ad phir kuch bhi
ki jab kisi ne muqaabil mein aa ke loot liya

ajeeb naaz se ulti naqaab-e-rukh is ne
ki mujh ko rooh-e-munavvar dikha ke loot liya

lo hum bhi aaj to taabaan fareb kha baithe
kisi ne yoonhi mohabbat se ja ke loot liya

सितम है अपना किसी ने बना के लूट लिया
मिरी नज़र से नज़र को मिला के लूट लिया

हरीम-ए-नाज़ के पर्दे में जो निहाँ था कभी
उसी ने शोख़ अदाएँ दिखा के लूट लिया

रहा न होश मुझे उस के बा'द फिर कुछ भी
की जब किसी ने मुक़ाबिल में आ के लूट लिया

अजीब नाज़ से उल्टी नक़ाब-ए-रुख़ इस ने
की मुझ को रूह-ए-मुनव्वर दिखा के लूट लिया

लो हम भी आज तो 'ताबाँ' फ़रेब खा बैठे
किसी ने यूँही मोहब्बत से जा के लूट लिया

- Anwar Taban
0 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anwar Taban

As you were reading Shayari by Anwar Taban

Similar Writers

our suggestion based on Anwar Taban

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari