dil ki tarah hi ab meri duniya kharab hai | दिल की तरह ही अब मिरी दुनिया ख़राब है - Ashu Mishra

dil ki tarah hi ab meri duniya kharab hai
so apna haal in dinon achha kharab hai

aansu bahe to yun hua beenaai badh gai
phir saaf saaf dik gaya kya kya kharab hai

pahle-pahl to main tira yak-tarfa ishq tha
ab mera haal tujh se ziyaada kharab hai

duniya se tang shakhs ko achhi hai khud-kushi
gharqaab hote shakhs ko tinka kharab hai

to ishq se mitaayenge duniya ki nafratein
mishra jee aap theek hain maatha kharab hai

दिल की तरह ही अब मिरी दुनिया ख़राब है
सो अपना हाल इन दिनों अच्छा ख़राब है

आँसू बहे तो यूँ हुआ बीनाई बढ़ गई
फिर साफ़ साफ़ दिख गया क्या क्या ख़राब है

पहले-पहल तो मैं तिरा यक-तरफ़ा इश्क़ था
अब मेरा हाल तुझ से ज़ियादा ख़राब है

दुनिया से तंग शख़्स को अच्छी है ख़ुद-कुशी
ग़र्क़ाब होते शख़्स को तिनका ख़राब है

तो इश्क़ से मिटाएँगे दुनिया की नफ़रतें
'मिश्रा' जी आप ठीक हैं माथा ख़राब है

- Ashu Mishra
0 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari