us ki qurbat mein hua hai ye khasaara mera | उस की क़ुर्बत में हुआ है ये ख़सारा मेरा - Ashu Mishra

us ki qurbat mein hua hai ye khasaara mera
aap padh leejie har aankh mein qissa mera

har nayi saans pe banta hoon bigad jaata hoon
ye hawa khatm hi kar de na tamasha mera

ab to honton pe kabhi phool bhi khil jaate hain
aap ne in dinon dekha nahin chehra mera

main ne ro ro ke use gair ka hone na diya
us bala-khez ko zanjeer tha giryaa mera

ab naye dasht mujhe dekh ke dar jaate hain
meri vehshat ne badha rakha hai rutba mera

उस की क़ुर्बत में हुआ है ये ख़सारा मेरा
आप पढ़ लीजिए हर आँख में क़िस्सा मेरा

हर नई साँस पे बनता हूँ बिगड़ जाता हूँ
ये हवा ख़त्म ही कर दे न तमाशा मेरा

अब तो होंटों पे कभी फूल भी खिल जाते हैं
आप ने इन दिनों देखा नहीं चेहरा मेरा

मैं ने रो रो के उसे ग़ैर का होने न दिया
उस बला-ख़ेज़ को ज़ंजीर था गिर्या मेरा

अब नए दश्त मुझे देख के डर जाते हैं
मेरी वहशत ने बढ़ा रक्खा है रुत्बा मेरा

- Ashu Mishra
1 Like

Romance Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Romance Shayari Shayari