tumhaari shakl kisi shakl se milaate hue | तुम्हारी शक्ल किसी शक्ल से मिलाते हुए - Ashu Mishra

tumhaari shakl kisi shakl se milaate hue
main kho gaya hoon naya raasta banaate hue

mera naseeb ki patjhad mein khil gaye hain phool
vo haath aa laga hai haath aazmaate hue

main jhooth bol doon lekin bura to lagta hai
tumhaare sher kisi aur ko sunaate hue

utar ke shaakh se auron mein ho gaya aabaad
ki umr kaat di jis phool ko khilaate hue

akela main nahin mujrim shab-e-visaal ka dost
thi teri phoonk bhi shaamil diya bujhaate hue

tire jamaal ki rangat nazar mein rakhta hoon
main canvas pe tasveer-e-gul banaate hue

isee gumaan mein shab bhar sharaab peete rahe
ki ab vo haath ko rokega haq jataate hue

तुम्हारी शक्ल किसी शक्ल से मिलाते हुए
मैं खो गया हूँ नया रास्ता बनाते हुए

मिरा नसीब कि पतझड़ में खिल गए हैं फूल
वो हाथ आ लगा है हाथ आज़माते हुए

मैं झूट बोल दूँ लेकिन बुरा तो लगता है
तुम्हारे शेर किसी और को सुनाते हुए

उतर के शाख़ से औरों में हो गया आबाद
कि उम्र काट दी जिस फूल को खिलाते हुए

अकेला मैं नहीं मुजरिम शब-ए-विसाल का दोस्त
थी तेरी फूँक भी शामिल दिया बुझाते हुए

तिरे जमाल की रंगत नज़र में रखता हूँ
मैं कैनवास पे तस्वीर-ए-गुल बनाते हुए

इसी गुमान में शब भर शराब पीते रहे
कि अब वो हाथ को रोकेगा हक़ जताते हुए

- Ashu Mishra
1 Like

Dost Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Dost Shayari Shayari