mere sukhun mein tabhi falsafa ziyaada hai | मेरे सुख़न में तभी फ़ल्सफ़ा ज़ियादा है - Ashu Mishra

mere sukhun mein tabhi falsafa ziyaada hai
ki main ne likkha bahut kam padha ziyaada hai

us ek rang ki thi justuju zamaane ko
vo ek rang jo mujh pe khula ziyaada hai

tum hi batao abhi kaise chhod doon us ko
abhi vo mujh mein zara mubtala ziyaada hai

ye ek pal ki wafa muddaton ka rona hai
zara se jurm ki itni saza ziyaada hai

main apne aap mein hoon hi nahin so ab mujh mein
kuchh ek din se koi doosra ziyaada hai

मेरे सुख़न में तभी फ़ल्सफ़ा ज़ियादा है
कि मैं ने लिक्खा बहुत कम पढ़ा ज़ियादा है

उस एक रंग की थी जुस्तुजू ज़माने को
वो एक रंग जो मुझ पे खुला ज़ियादा है

तुम ही बताओ अभी कैसे छोड़ दूँ उस को
अभी वो मुझ में ज़रा मुब्तला ज़ियादा है

ये एक पल की वफ़ा मुद्दतों का रोना है
ज़रा से जुर्म की इतनी सज़ा ज़ियादा है

मैं अपने आप में हूँ ही नहीं सो अब मुझ में
कुछ एक दिन से कोई दूसरा ज़ियादा है

- Ashu Mishra
3 Likes

Sazaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Sazaa Shayari Shayari