dukh hamaara kam karenge aap rahne deejie | दुःख हमारा कम करेंगे, आप रहने दीजिये - Aslam Rashid

dukh hamaara kam karenge aap rahne deejie
aag ko shabnam karenge aap rahne deejie

aap hi ke hukm se laashein bichi hain har taraf
aap bhi maatam karenge aap rahne deejie

aapne khoya kise hai aapne dekha hai kya
aap kiska gham karenge aap rahne deejie

chaak jitne bhi garebaan ho chuke hain aaj tak
ham unhen parcham karenge aap rahne deejie

zindagi ne ye sabq hamko sikhaaya der se
dard ko marham karenge aap rahne deejie

aapka to shauq hai jalte gharo ko dekhna
aap aankhen nam karenge aap rahne deejie

दुःख हमारा कम करेंगे, आप रहने दीजिये
आग को शबनम करेंगे, आप रहने दीजिये

आप ही के हुक्म से लाशें बिछी हैं हर तरफ़
आप भी मातम करेंगे, आप रहने दीजिये

आपने खोया किसे है, आपने देखा है क्या
आप किसका ग़म करेंगे, आप रहने दीजिये

चाक जितने भी गरीबां हो चुके हैं आज तक
हम उन्हें परचम करेंगे, आप रहने दीजिये

ज़िन्दगी ने ये सबक़ हमको सिखाया देर से
दर्द को मरहम करेंगे, आप रहने दीजिए

आपका तो शौक़ है जलते घरों को देखना
आप आँखें नम करेंगे, आप रहने दीजिये

- Aslam Rashid
3 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aslam Rashid

As you were reading Shayari by Aslam Rashid

Similar Writers

our suggestion based on Aslam Rashid

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari