hijr ki raat yaad aati hai | हिज्र की रात याद आती है - Aziz Lakhnavi

hijr ki raat yaad aati hai
phir wahi baat yaad aati hai

tum ne chheda to kuchh khule ham bhi
baat par baat yaad aati hai

tum the aur ham the chaand nikla tha
haaye vo raat yaad aati hai

subh ke waqt zarre zarre ki
vo munaajat yaad aati hai

haaye kya cheez thi jawaani bhi
ab to din-raat yaad aati hai

may se tauba to ki aziz magar
akshar auqaat yaad aati hai

हिज्र की रात याद आती है
फिर वही बात याद आती है

तुम ने छेड़ा तो कुछ खुले हम भी
बात पर बात याद आती है

तुम थे और हम थे चाँद निकला था
हाए वो रात याद आती है

सुब्ह के वक़्त ज़र्रे ज़र्रे की
वो मुनाजात याद आती है

हाए क्या चीज़ थी जवानी भी
अब तो दिन-रात याद आती है

मय से तौबा तो की 'अज़ीज़' मगर
अक्सर औक़ात याद आती है

- Aziz Lakhnavi
1 Like

Breakup Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aziz Lakhnavi

As you were reading Shayari by Aziz Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Aziz Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Breakup Shayari Shayari