dil mein hasrat koi bachi hi nahin | दिल में हसरत कोई बची ही नहीं - Azm Shakri

dil mein hasrat koi bachi hi nahin
aag aisi lagi bujhi hi nahin

us ne jab khud ko be-naqaab kiya
phir kisi ki nazar uthi hi nahin

jaisa is baar khul ke roye ham
aisi baarish kabhi hui hi nahin

zindagi ko gale lagaate kya
zindagi umr-bhar mili hi nahin

muntazir kab se chaand chat par hai
koi khidki abhi khuli hi nahin

main jise apni zindagi samjha
sach to ye hai vo meri thi hi nahin

दिल में हसरत कोई बची ही नहीं
आग ऐसी लगी बुझी ही नहीं

उस ने जब ख़ुद को बे-नक़ाब किया
फिर किसी की नज़र उठी ही नहीं

जैसा इस बार खुल के रोए हम
ऐसी बारिश कभी हुई ही नहीं

ज़िंदगी को गले लगाते क्या
ज़िंदगी उम्र-भर मिली ही नहीं

मुंतज़िर कब से चाँद छत पर है
कोई खिड़की अभी खुली ही नहीं

मैं जिसे अपनी ज़िंदगी समझा
सच तो ये है वो मेरी थी ही नहीं

- Azm Shakri
4 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azm Shakri

As you were reading Shayari by Azm Shakri

Similar Writers

our suggestion based on Azm Shakri

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari