zindagi yun bhi guzaari ja rahi hai | ज़िंदगी यूँ भी गुज़ारी जा रही है - Azm Shakri

zindagi yun bhi guzaari ja rahi hai
jaise koi jang haari ja rahi hai

jis jagah pehle ke zakhamon ke nishaan mein
phir wahin par chot maari ja rahi hai

waqt-e-rukhsat aab-deeda aap kyun hain
jism se to jaan hamaari ja rahi hai

bol kar taarif mein kuch lafz us ki
shakhsiyat apni nikhaari ja rahi hai

dhoop ke dastaane haathon mein pahan kar
barf ki chadar utaari ja rahi hai

ज़िंदगी यूँ भी गुज़ारी जा रही है
जैसे कोई जंग हारी जा रही है

जिस जगह पहले के ज़ख़्मों के निशाँ में
फिर वहीं पर चोट मारी जा रही है

वक़्त-ए-रुख़्सत आब-दीदा आप क्यूँ हैं
जिस्म से तो जाँ हमारी जा रही है

बोल कर तारीफ़ में कुछ लफ़्ज़ उस की
शख़्सियत अपनी निखारी जा रही है

धूप के दस्ताने हाथों में पहन कर
बर्फ़ की चादर उतारी जा रही है

- Azm Shakri
3 Likes

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azm Shakri

As you were reading Shayari by Azm Shakri

Similar Writers

our suggestion based on Azm Shakri

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari