chamak rahi hai paron mein udaan ki khushboo | चमक रही है परों में उड़ान की ख़ुशबू - Bashir Badr

chamak rahi hai paron mein udaan ki khushboo
bula rahi hai bahut aasmaan ki khushboo

bhatk rahi hai puraani dulaaiyaan odhe
haveliyon mein mere khaandaan ki khushboo

suna ke koi kahaani hamein sulaati thi
duaon jaisi bade paan-daan ki khushboo

daba tha phool koi mez-posh ke neeche
garaj rahi thi bahut pechvaan ki khushboo

ajab vaqaar tha sukhe sunhare baalon mein
udaasiyon ki chamak zard lawn ki khushboo

vo itr-daan sa lahja mere buzurgon ka
rachi-basi hui urdu zabaan ki khushboo

ghazal ki shaakh pe ik phool khilne waala hai
badan se aane lagi zaafaraan ki khushboo

imaarton ki bulandi pe koi mausam kya
kahaan se aa gai kacche makaan ki khushboo

gulon pe likhti hui la-ilaha-illallah
pahaadiyon se utarti azaan ki khushboo

चमक रही है परों में उड़ान की ख़ुशबू
बुला रही है बहुत आसमान की ख़ुशबू

भटक रही है पुरानी दुलाइयाँ ओढ़े
हवेलियों में मिरे ख़ानदान की ख़ुशबू

सुना के कोई कहानी हमें सुलाती थी
दुआओं जैसी बड़े पान-दान की ख़ुशबू

दबा था फूल कोई मेज़-पोश के नीचे
गरज रही थी बहुत पेचवान की ख़ुशबू

अजब वक़ार था सूखे सुनहरे बालों में
उदासियों की चमक ज़र्द लॉन की ख़ुशबू

वो इत्र-दान सा लहजा मिरे बुज़ुर्गों का
रची-बसी हुई उर्दू ज़बान की ख़ुशबू

ग़ज़ल की शाख़ पे इक फूल खिलने वाला है
बदन से आने लगी ज़ाफ़रान की ख़ुशबू

इमारतों की बुलंदी पे कोई मौसम क्या
कहाँ से आ गई कच्चे मकान की ख़ुशबू

गुलों पे लिखती हुई ला-इलाहा-इल्लल्लाह
पहाड़ियों से उतरती अज़ान की ख़ुशबू

- Bashir Badr
5 Likes

Zulf Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Zulf Shayari Shayari