phire raah se vo yahan aate aate | फिरे राह से वो यहाँ आते आते - Dagh Dehlvi

phire raah se vo yahan aate aate
ajal mar rahi tu kahaan aate aate

na jaana ki duniya se jaata hai koi
bahut der ki meherbaan aate aate

suna hai ki aata hai sar nama-bar ka
kahaan rah gaya armugaan aate aate

yaqeen hai ki ho jaaye aakhir ko sacchi
mere munh mein teri zabaan aate aate

sunaane ke qaabil jo thi baat un ko
wahi rah gai darmiyaan aate aate

mujhe yaad karne se ye muddaa tha
nikal jaaye dam hichakiyaan aate aate

abhi sin hi kya hai jo bebaakiyaan hon
unhen aayengi shokhiyaan aate aate

kaleja mere munh ko aayega ik din
yoonhi lab par aah-o-fughaan aate aate

chale aate hain dil mein armaan laakhon
makaan bhar gaya mehmaan aate aate

nateeja na nikla thake sab payaami
wahan jaate jaate yahan aate aate

tumhaara hi mushtaqa-e-deedaar hoga
gaya jaan se ik jawaan aate aate

tiri aankh firte hi kaisa fira hai
meri raah par aasmaan aate aate

pada hai bada pech phir dil-lagi mein
tabeeyat ruki hai jahaan aate aate

mere aashiyaan ke to the chaar tinke
chaman ud gaya aandhiyaan aate aate

kisi ne kuchh un ko ubhaara to hota
na aate na aate yahan aate aate

qayamat bhi aati thi hamraah us ke
magar rah gai hum-inaan aate aate

bana hai hamesha ye dil baagh o sehra
bahaar aate aate khizaan aate aate

nahin khel ai daagh yaaron se kah do
ki aati hai urdu zabaan aate aate

फिरे राह से वो यहाँ आते आते
अजल मर रही तू कहाँ आते आते

न जाना कि दुनिया से जाता है कोई
बहुत देर की मेहरबाँ आते आते

सुना है कि आता है सर नामा-बर का
कहाँ रह गया अरमुग़ाँ आते आते

यक़ीं है कि हो जाए आख़िर को सच्ची
मिरे मुँह में तेरी ज़बाँ आते आते

सुनाने के क़ाबिल जो थी बात उन को
वही रह गई दरमियाँ आते आते

मुझे याद करने से ये मुद्दआ था
निकल जाए दम हिचकियाँ आते आते

अभी सिन ही क्या है जो बेबाकियाँ हों
उन्हें आएँगी शोख़ियाँ आते आते

कलेजा मिरे मुँह को आएगा इक दिन
यूँही लब पर आह-ओ-फ़ुग़ाँ आते आते

चले आते हैं दिल में अरमान लाखों
मकाँ भर गया मेहमाँ आते आते

नतीजा न निकला थके सब पयामी
वहाँ जाते जाते यहाँ आते आते

तुम्हारा ही मुश्ताक़-ए-दीदार होगा
गया जान से इक जवाँ आते आते

तिरी आँख फिरते ही कैसा फिरा है
मिरी राह पर आसमाँ आते आते

पड़ा है बड़ा पेच फिर दिल-लगी में
तबीअत रुकी है जहाँ आते आते

मिरे आशियाँ के तो थे चार तिनके
चमन उड़ गया आँधियाँ आते आते

किसी ने कुछ उन को उभारा तो होता
न आते न आते यहाँ आते आते

क़यामत भी आती थी हमराह उस के
मगर रह गई हम-इनाँ आते आते

बना है हमेशा ये दिल बाग़ ओ सहरा
बहार आते आते ख़िज़ाँ आते आते

नहीं खेल ऐ 'दाग़' यारों से कह दो
कि आती है उर्दू ज़बाँ आते आते

- Dagh Dehlvi
1 Like

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari