maze ishq ke kuchh wahi jaante hain | मज़े इश्क़ के कुछ वही जानते हैं - Dagh Dehlvi

maze ishq ke kuchh wahi jaante hain
ki jo maut ko zindagi jaante hain

shab-e-wasl leen un ki itni balaaen
ki hamdam mere haath hi jaante hain

na ho dil to kya lutf-e-aazaar-o-raahat
barabar khushi na-khushi jaante hain

jo hai mere dil mein unhin ko khabar hai
jo main jaanta hoon wahi jaante hain

pada hoon sar-e-bazm main dam churaaye
magar vo ise be-khudi jaante hain

kahaan qadr-e-ham-jins ham-jins ko hai
farishton ko bhi aadmi jaante hain

kahoon haal-e-dil to kahein us se haasil
sabhi ko khabar hai sabhi jaante hain

vo naadaan anjaan bhole hain aise
ki sab sheva-e-dushmani jaante hain

nahin jaante is ka anjaam kya hai
vo marna mera dil-lagi jaante hain

samajhta hai tu daagh ko rind zaahid
magar rind us ko wali jaante hain

मज़े इश्क़ के कुछ वही जानते हैं
कि जो मौत को ज़िंदगी जानते हैं

शब-ए-वस्ल लीं उन की इतनी बलाएँ
कि हमदम मिरे हाथ ही जानते हैं

न हो दिल तो क्या लुत्फ़-ए-आज़ार-ओ-राहत
बराबर ख़ुशी ना-ख़ुशी जानते हैं

जो है मेरे दिल में उन्हीं को ख़बर है
जो मैं जानता हूँ वही जानते हैं

पड़ा हूँ सर-ए-बज़्म मैं दम चुराए
मगर वो इसे बे-ख़ुदी जानते हैं

कहाँ क़द्र-ए-हम-जिंस हम-जिंस को है
फ़रिश्तों को भी आदमी जानते हैं

कहूँ हाल-ए-दिल तो कहें उस से हासिल
सभी को ख़बर है सभी जानते हैं

वो नादान अंजान भोले हैं ऐसे
कि सब शेवा-ए-दुश्मनी जानते हैं

नहीं जानते इस का अंजाम क्या है
वो मरना मेरा दिल-लगी जानते हैं

समझता है तू 'दाग़' को रिंद ज़ाहिद
मगर रिंद उस को वली जानते हैं

- Dagh Dehlvi
4 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari