milaate ho usi ko khaak mein jo dil se milta hai | मिलाते हो उसी को ख़ाक में जो दिल से मिलता है - Dagh Dehlvi

milaate ho usi ko khaak mein jo dil se milta hai
meri jaan chaahne waala badi mushkil se milta hai

kahi hai eed ki shaadi kahi maatam hai maqtal mein
koi qaateel se milta hai koi bismil se milta hai

pas-e-parda bhi leila haath rakh leti hai aankhon par
ghubaar-e-na-tavaan-e-qais jab mahmil se milta hai

bhare hain tujh mein vo laakhon hunar ai majma-e-khoobi
mulaqaati tira goya bhari mehfil se milta hai

mujhe aata hai kya kya rashk waqt-e-zabh us se bhi
gala jis dam lipt kar khanjar-e-qaatil se milta hai

b-zaahir ba-adab yun hazrat-e-naaseh se milta hoon
mureed-e-khaas jaise murshid-e-kaamil se milta hai

misaal-e-ganj-e-qaaroon ahl-e-haajat se nahin chhupta
jo hota hai sakhi khud dhundh kar sail se milta hai

jawaab is baat ka us shokh ko kya de sake koi
jo dil le kar kahe kam-bakht tu kis dil se milta hai

chhupaaye se koi chhupti hai apne dil ki betaabi
ki har taar-e-nafs apna rag-e-bismil se milta hai

adam ki jo haqeeqat hai vo poocho ahl-e-hasti se
musaafir ko to manzil ka pata manzil se milta hai

gazab hai daagh ke dil se tumhaara dil nahin milta
tumhaara chaand sa chehra mah-e-kaamil se milta hai

मिलाते हो उसी को ख़ाक में जो दिल से मिलता है
मिरी जाँ चाहने वाला बड़ी मुश्किल से मिलता है

कहीं है ईद की शादी कहीं मातम है मक़्तल में
कोई क़ातिल से मिलता है कोई बिस्मिल से मिलता है

पस-ए-पर्दा भी लैला हाथ रख लेती है आँखों पर
ग़ुबार-ए-ना-तवान-ए-क़ैस जब महमिल से मिलता है

भरे हैं तुझ में वो लाखों हुनर ऐ मजमा-ए-ख़ूबी
मुलाक़ाती तिरा गोया भरी महफ़िल से मिलता है

मुझे आता है क्या क्या रश्क वक़्त-ए-ज़ब्ह उस से भी
गला जिस दम लिपट कर ख़ंजर-ए-क़ातिल से मिलता है

ब-ज़ाहिर बा-अदब यूँ हज़रत-ए-नासेह से मिलता हूँ
मुरीद-ए-ख़ास जैसे मुर्शिद-ए-कामिल से मिलता है

मिसाल-ए-गंज-ए-क़ारूँ अहल-ए-हाजत से नहीं छुपता
जो होता है सख़ी ख़ुद ढूँड कर साइल से मिलता है

जवाब इस बात का उस शोख़ को क्या दे सके कोई
जो दिल ले कर कहे कम-बख़्त तू किस दिल से मिलता है

छुपाए से कोई छुपती है अपने दिल की बेताबी
कि हर तार-ए-नफ़स अपना रग-ए-बिस्मिल से मिलता है

अदम की जो हक़ीक़त है वो पूछो अहल-ए-हस्ती से
मुसाफ़िर को तो मंज़िल का पता मंज़िल से मिलता है

ग़ज़ब है 'दाग़' के दिल से तुम्हारा दिल नहीं मिलता
तुम्हारा चाँद सा चेहरा मह-ए-कामिल से मिलता है

- Dagh Dehlvi
1 Like

DP Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading DP Shayari Shayari