ranj ki jab guftugoo hone lagi | रंज की जब गुफ़्तुगू होने लगी - Dagh Dehlvi

ranj ki jab guftugoo hone lagi
aap se tum tum se tu hone lagi

chahiye paigham-bar dono taraf
lutf kya jab doo-b-doo hone lagi

meri ruswaai ki naubat aa gai
un ki shohrat koo-b-koo hone lagi

hai tiri tasveer kitni be-hijaab
har kisi ke roo-b-roo hone lagi

gair ke hote bhala ai shaam-e-wasl
kyun hamaare roo-b-roo hone lagi

na-ummeedi badh gai hai is qadar
aarzoo ki aarzoo hone lagi

ab ke mil kar dekhiye kya rang ho
phir hamaari justuju hone lagi

daagh itraaye hue firte hain aaj
shaayad un ki aabroo hone lagi

रंज की जब गुफ़्तुगू होने लगी
आप से तुम तुम से तू होने लगी

चाहिए पैग़ाम-बर दोनों तरफ़
लुत्फ़ क्या जब दू-ब-दू होने लगी

मेरी रुस्वाई की नौबत आ गई
उन की शोहरत कू-ब-कू होने लगी

है तिरी तस्वीर कितनी बे-हिजाब
हर किसी के रू-ब-रू होने लगी

ग़ैर के होते भला ऐ शाम-ए-वस्ल
क्यूँ हमारे रू-ब-रू होने लगी

ना-उम्मीदी बढ़ गई है इस क़दर
आरज़ू की आरज़ू होने लगी

अब के मिल कर देखिए क्या रंग हो
फिर हमारी जुस्तुजू होने लगी

'दाग़' इतराए हुए फिरते हैं आज
शायद उन की आबरू होने लगी

- Dagh Dehlvi
1 Like

Shohrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Shohrat Shayari Shayari