sab log jidhar vo hain udhar dekh rahe hain | सब लोग जिधर वो हैं उधर देख रहे हैं - Dagh Dehlvi

sab log jidhar vo hain udhar dekh rahe hain
ham dekhne waalon ki nazar dekh rahe hain

tevar tire ai rashk-e-qamar dekh rahe hain
ham shaam se aasaar-e-sehr dekh rahe hain

mera dil-e-gum-gashta jo dhoonda nahin milta
vo apna dehan apni kamar dekh rahe hain

koi to nikal aayega sarbaaz-e-mohabbat
dil dekh rahe hain vo jigar dekh rahe hain

hai majma-e-aghyaar ki hangaama-e-mahshar
kya sair mere deeda-e-tar dekh rahe hain

ab ai nigah-e-shauq na rah jaaye tamannaa
is waqt udhar se vo idhar dekh rahe hain

har-chand ki har roz ki ranjish hai qayamat
ham koi din us ko bhi magar dekh rahe hain

aamad hai kisi ki ki gaya koi idhar se
kyun sab taraf-e-raahguzar dekh rahe hain

takraar tajalli ne tire jalwe mein kyun ki
hairat-zada sab ahl-e-nazar dekh rahe hain

nairang hai ek ek tira deed ke qaabil
ham ai falak-e-shobda-gar dekh rahe hain

kab tak hai tumhaara sukhan-e-talkh gawara
is zahar mein kitna hai asar dekh rahe hain

kuchh dekh rahe hain dil-e-bismil ka tadapna
kuchh ghaur se qaateel ka hunar dekh rahe hain

ab tak to jo qismat ne dikhaaya wahi dekha
aainda ho kya nafa o zarar dekh rahe hain

pehle to suna karte the aashiq ki museebat
ab aankh se vo aath pahar dekh rahe hain

kyun kufr hai deedaar-e-sanam hazrat-e-waaiz
allah dikhaata hai bashar dekh rahe hain

khat gair ka padhte the jo toka to vo bole
akhbaar ka parcha hai khabar dekh rahe hain

padh padh ke vo dam karte hain kuchh haath par apne
hans hans ke mere zakham-e-jigar dekh rahe hain

main daagh hoon marta hoon idhar dekhiye mujh ko
munh fer ke ye aap kidhar dekh rahe hain

सब लोग जिधर वो हैं उधर देख रहे हैं
हम देखने वालों की नज़र देख रहे हैं

तेवर तिरे ऐ रश्क-ए-क़मर देख रहे हैं
हम शाम से आसार-ए-सहर देख रहे हैं

मेरा दिल-ए-गुम-गश्ता जो ढूँडा नहीं मिलता
वो अपना दहन अपनी कमर देख रहे हैं

कोई तो निकल आएगा सरबाज़-ए-मोहब्बत
दिल देख रहे हैं वो जिगर देख रहे हैं

है मजमा-ए-अग़्यार कि हंगामा-ए-महशर
क्या सैर मिरे दीदा-ए-तर देख रहे हैं

अब ऐ निगह-ए-शौक़ न रह जाए तमन्ना
इस वक़्त उधर से वो इधर देख रहे हैं

हर-चंद कि हर रोज़ की रंजिश है क़यामत
हम कोई दिन उस को भी मगर देख रहे हैं

आमद है किसी की कि गया कोई इधर से
क्यूँ सब तरफ़-ए-राहगुज़र देख रहे हैं

तकरार तजल्ली ने तिरे जल्वे में क्यूँ की
हैरत-ज़दा सब अहल-ए-नज़र देख रहे हैं

नैरंग है एक एक तिरा दीद के क़ाबिल
हम ऐ फ़लक-ए-शोबदा-गर देख रहे हैं

कब तक है तुम्हारा सुख़न-ए-तल्ख़ गवारा
इस ज़हर में कितना है असर देख रहे हैं

कुछ देख रहे हैं दिल-ए-बिस्मिल का तड़पना
कुछ ग़ौर से क़ातिल का हुनर देख रहे हैं

अब तक तो जो क़िस्मत ने दिखाया वही देखा
आइंदा हो क्या नफ़ा ओ ज़रर देख रहे हैं

पहले तो सुना करते थे आशिक़ की मुसीबत
अब आँख से वो आठ पहर देख रहे हैं

क्यूँ कुफ़्र है दीदार-ए-सनम हज़रत-ए-वाइज़
अल्लाह दिखाता है बशर देख रहे हैं

ख़त ग़ैर का पढ़ते थे जो टोका तो वो बोले
अख़बार का परचा है ख़बर देख रहे हैं

पढ़ पढ़ के वो दम करते हैं कुछ हाथ पर अपने
हँस हँस के मिरे ज़ख़्म-ए-जिगर देख रहे हैं

मैं 'दाग़' हूँ मरता हूँ इधर देखिए मुझ को
मुँह फेर के ये आप किधर देख रहे हैं

- Dagh Dehlvi
3 Likes

Khat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Khat Shayari Shayari