lutf vo ishq mein paaye hain ki jee jaanta hai | लुत्फ़ वो इश्क़ में पाए हैं कि जी जानता है - Dagh Dehlvi

lutf vo ishq mein paaye hain ki jee jaanta hai
ranj bhi aise uthaaye hain ki jee jaanta hai

jo zamaane ke sitam hain vo zamaana jaane
tu ne dil itne sataaye hain ki jee jaanta hai

tum nahin jaante ab tak ye tumhaare andaaz
vo mere dil mein samaaye hain ki jee jaanta hai

inheen qadmon ne tumhaare inheen qadmon ki qasam
khaak mein itne milaaye hain ki jee jaanta hai

dosti mein tiri dar-parda hamaare dushman
is qadar apne paraaye hain ki jee jaanta hai

लुत्फ़ वो इश्क़ में पाए हैं कि जी जानता है
रंज भी ऐसे उठाए हैं कि जी जानता है

जो ज़माने के सितम हैं वो ज़माना जाने
तू ने दिल इतने सताए हैं कि जी जानता है

तुम नहीं जानते अब तक ये तुम्हारे अंदाज़
वो मिरे दिल में समाए हैं कि जी जानता है

इन्हीं क़दमों ने तुम्हारे इन्हीं क़दमों की क़सम
ख़ाक में इतने मिलाए हैं कि जी जानता है

दोस्ती में तिरी दर-पर्दा हमारे दुश्मन
इस क़दर अपने पराए हैं कि जी जानता है

- Dagh Dehlvi
0 Likes

Dushman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dushman Shayari Shayari