aarzoo hai wafa kare koi | आरज़ू है वफ़ा करे कोई - Dagh Dehlvi

aarzoo hai wafa kare koi
jee na chahe to kya kare koi

gar marz ho dava kare koi
marne waale ka kya kare koi

kosate hain jale hue kya kya
apne haq mein dua kare koi

un se sab apni apni kahte hain
mera matlab ada kare koi

chaah se aap ko to nafrat hai
mujh ko chahe khuda kare koi

us gile ko gila nahin kahte
gar maze ka gila kare koi

ye mili daad ranj-e-furqat ki
aur dil ka kaha kare koi

tum saraapa ho soorat-e-tasveer
tum se phir baat kya kare koi

kahte hain ham nahin khuda-e-kareem
kyun hamaari khata kare koi

jis mein laakhon baras ki hooren hon
aisi jannat ko kya kare koi

is jafaa par tumhein tamannaa hai
ki meri iltijaa kare koi

munh lagaate hi daagh itraaya
lutf hai phir jafaa kare koi

आरज़ू है वफ़ा करे कोई
जी न चाहे तो क्या करे कोई

गर मरज़ हो दवा करे कोई
मरने वाले का क्या करे कोई

कोसते हैं जले हुए क्या क्या
अपने हक़ में दुआ करे कोई

उन से सब अपनी अपनी कहते हैं
मेरा मतलब अदा करे कोई

चाह से आप को तो नफ़रत है
मुझ को चाहे ख़ुदा करे कोई

उस गिले को गिला नहीं कहते
गर मज़े का गिला करे कोई

ये मिली दाद रंज-ए-फ़ुर्क़त की
और दिल का कहा करे कोई

तुम सरापा हो सूरत-ए-तस्वीर
तुम से फिर बात क्या करे कोई

कहते हैं हम नहीं ख़ुदा-ए-करीम
क्यूँ हमारी ख़ता करे कोई

जिस में लाखों बरस की हूरें हों
ऐसी जन्नत को क्या करे कोई

इस जफ़ा पर तुम्हें तमन्ना है
कि मिरी इल्तिजा करे कोई

मुँह लगाते ही 'दाग़' इतराया
लुत्फ़ है फिर जफ़ा करे कोई

- Dagh Dehlvi
1 Like

Ibaadat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Ibaadat Shayari Shayari