vo aadmi nahin hai mukammal bayaan hai | वो आदमी नहीं है मुकम्मल बयान है - Dushyant Kumar

vo aadmi nahin hai mukammal bayaan hai
maathe pe us ke chot ka gahra nishaan hai

vo kar rahe hain ishq pe sanjeeda guftugoo
main kya bataaun mera kahi aur dhyaan hai

samaan kuchh nahin hai fate-haal hai magar
jhole mein us ke paas koi samvidhaan hai

us sar-fire ko yun nahin bahla sakenge aap
vo aadmi naya hai magar saavdhaan hai

fissle jo us jagah to ludhkate chale gaye
ham ko pata nahin tha ki itni dhalaan hai

dekhe hain ham ne daur kai ab khabar nahin
paav tale zameen hai ya aasmaan hai

vo aadmi mila tha mujhe us ki baat se
aisa laga ki vo bhi bahut be-zabaan hai

वो आदमी नहीं है मुकम्मल बयान है
माथे पे उस के चोट का गहरा निशान है

वो कर रहे हैं इश्क़ पे संजीदा गुफ़्तुगू
मैं क्या बताऊँ मेरा कहीं और ध्यान है

सामान कुछ नहीं है फटे-हाल है मगर
झोले में उस के पास कोई संविधान है

उस सर-फिरे को यूँ नहीं बहला सकेंगे आप
वो आदमी नया है मगर सावधान है

फिस्ले जो उस जगह तो लुढ़कते चले गए
हम को पता नहीं था कि इतनी ढलान है

देखे हैं हम ने दौर कई अब ख़बर नहीं
पावँ तले ज़मीन है या आसमान है

वो आदमी मिला था मुझे उस की बात से
ऐसा लगा कि वो भी बहुत बे-ज़बान है

- Dushyant Kumar
12 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari