khooban ke beech jaanaan mumtaaz hai saraapa | ख़ूबाँ के बीच जानाँ मुम्ताज़ है सरापा - Faez Dehlvi

khooban ke beech jaanaan mumtaaz hai saraapa
andaaz-e-dilbari mein ejaz hai saraapa

pal pal matka ke dekhe dag dag chale latk ke
vo shokh chhal chabeela tannaaz hai saraapa

tirchi nigaah karna katara ke baat sunna
majlis mein aashiqon ki andaaz hai saraapa

nainon mein us ki jaadu zulfaan mein us ki fanda
dil ke shikaar mein vo shahbaaz hai saraapa

ghamza nigaah taghaaful ankhiyaan siyaah o chanchal
ya rab nazar na laage andaaz hai saraapa

us ke khiraam oopar taaoos mast haiga
vo meer dil-rabaabi tannaaz hai saraapa

kisht-e-ummeed karta sarsabz sabza-e-khat
anjaam-e-husn us ka aaghaaz hai saraapa

waqt-e-nazara faaez dildaar ka yahi hai
bistar nahin badan par tan-baaz hai saraapa

ख़ूबाँ के बीच जानाँ मुम्ताज़ है सरापा
अंदाज़-ए-दिलबरी में एजाज़ है सरापा

पल पल मटक के देखे डग डग चले लटक के
वो शोख़ छल छबीला तन्नाज़ है सरापा

तिरछी निगाह करना कतरा के बात सुनना
मज्लिस में आशिक़ों की अंदाज़ है सरापा

नैनों में उस की जादू ज़ुल्फ़ाँ में उस की फँदा
दिल के शिकार में वो शहबाज़ है सरापा

ग़म्ज़ा निगह तग़ाफ़ुल अँखियाँ सियाह ओ चंचल
या रब नज़र न लागे अंदाज़ है सरापा

उस के ख़िराम ऊपर ताऊस मस्त हैगा
वो मीर दिल-रबाबी तन्नाज़ है सरापा

किश्त-ए-उम्मीद करता सरसब्ज़ सब्ज़ा-ए-ख़त
अंजाम-ए-हुस्न उस का आग़ाज़ है सरापा

वक़्त-ए-नज़ारा 'फ़ाएज़' दिलदार का यही है
बिस्तर नहीं बदन पर तन-बाज़ है सरापा

- Faez Dehlvi
0 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari