sajan mujh par bahut na-mehrabaan hai | सजन मुझ पर बहुत ना-मेहरबाँ है - Faez Dehlvi

sajan mujh par bahut na-mehrabaan hai
kahaan vo aashiqan ka qadar-daan hai

kahoon ahvaal dil ka us ko kyunkar
bahut nazuk-mizaj o bad-zabaan hai

mera dil band hai us naazneen par
ajab us khush-liqaa mein ek aa hai

bhavaan shamsheer hain o zulf faansi
har ik palak us ki maanind-e-sinaan hai

khuda us ko rakhe duniya mein mahfooz
nihaal-e-aarzoo aaraam-e-jaan hai

chandra be-waqar hai us badr aage
safa us mukh ki har ik par ayaan hai

samajhta hai tire ashaar faaez
khuda ke fazl soon vo nukta-daan hai

सजन मुझ पर बहुत ना-मेहरबाँ है
कहाँ वो आशिक़ाँ का क़दर-दाँ है

कहूँ अहवाल दिल का उस को क्यूँकर
बहुत नाज़ुक-मिज़ाज ओ बद-ज़बाँ है

मिरा दिल बंद है उस नाज़नीं पर
अजब उस ख़ुश-लिक़ा में एक आँ है

भवाँ शमशीर हैं ओ ज़ुल्फ़ फाँसी
हर इक पलक उस की मानिंद-ए-सिनाँ है

ख़ुदा उस को रक्खे दुनिया में महफ़ूज़
निहाल-ए-आरज़ू आराम-ए-जाँ है

चंद्र बे-वक़र है उस बद्र आगे
सफ़ा उस मुख की हर इक पर अयाँ है

समझता है तिरे अशआर 'फ़ाएज़'
ख़ुदा के फ़ज़्ल सूँ वो नुक्ता-दाँ है

- Faez Dehlvi
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari