tujh bina dil ko be-qaraari hai | तुझ बिना दिल को बे-क़रारी है - Faez Dehlvi

tujh bina dil ko be-qaraari hai
dam-b-dam mujh ko aah-o-zaari hai

haath tere jo dekhi hai talwaar
aarzoo dil ko jaan-sipaari hai

mujh ko auron se kuchh nahin hai kaam
tujh se har dam umeed-vaari hai

ham se tujh ko nahin milaap kabhi
ye magar jag mein taur-e-yaari hai

aah koon dil mein main chhupata hoon
laazim-e-ishq parda-daari hai

gir raha teri raah par faaez
ishq ki shart khaaksaari hai

तुझ बिना दिल को बे-क़रारी है
दम-ब-दम मुझ को आह-ओ-ज़ारी है

हाथ तेरे जो देखी है तलवार
आरज़ू दिल को जाँ-सिपारी है

मुझ को औरों से कुछ नहीं है काम
तुझ से हर दम उमीद-वारी है

हम से तुझ को नहीं मिलाप कभी
ये मगर जग में तौर-ए-यारी है

आह कूँ दिल में मैं छुपाता हूँ
लाज़िम-ए-इश्क़ पर्दा-दारी है

गिर रहा तेरी राह पर 'फ़ाएज़'
इश्क़ की शर्त ख़ाकसारी है

- Faez Dehlvi
0 Likes

Afsos Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Afsos Shayari Shayari