dhoop sa yu kapool naari hai | धूप सा यू कपूल नारी है - Faez Dehlvi

dhoop sa yu kapool naari hai
kiran suraj ki vo kanaari hai

chhup raqeebaan soon aana nahin vo chaand
kya rain hijr ki andiyaari hai

nahin asar karta sabr ka marham
dil-e-aashiq mein zakham kaari hai

gul-e-baag-e-junoon hai ruswaai
izzat-e-mulk-e-ishq khaari hai

khoon-e-dil baada-o-jigar hai kebab
naghma-e-bazm-e-wasl zaari hai

leila majnoon ka zikr sard hua
ab tumhaari hamaari baari hai

milna aashiq soon hi bahaane soon
ye naseehat tuman hamaari hai

mujh koon mat jaano yaad soon ghaafil
raat din dil koon lau tumari hai

dil bandha sakht teri zulfaan par
aql faaez ki un bisaari hai

धूप सा यू कपूल नारी है
किरन सूरज की वो कनारी है

छुप रक़ीबाँ सूँ आना नहिं वो चाँद
क्या रैन हिज्र की अँदियारी है

नहिं असर करता सब्र का मरहम
दिल-ए-आशिक़ में ज़ख़्म कारी है

गुल-ए-बाग़-ए-जुनूँ है रुस्वाई
इज़्ज़त-ए-मुल्क-ए-इश्क़ ख़्वारी है

ख़ून-ए-दिल बादा-ओ-जिगर है कबाब
नग़्मा-ए-बज़्म-ए-वस्ल ज़ारी है

लैला मजनूँ का ज़िक्र सर्द हुआ
अब तुम्हारी हमारी बारी है

मिलना आशिक़ सूँ ही बहाने सूँ
ये नसीहत तुमन हमारी है

मुझ कूँ मत जानो याद सूँ ग़ाफ़िल
रात दिन दिल कूँ लौ तुमारी है

दिल बँधा सख़्त तेरी ज़ुल्फ़ाँ पर
अक़्ल 'फ़ाएज़' की उन बिसारी है

- Faez Dehlvi
0 Likes

Visaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Visaal Shayari Shayari