pech bhaaya mujh ko tujh dastaar ka | पेच भाया मुझ को तुझ दस्तार का - Faez Dehlvi

pech bhaaya mujh ko tujh dastaar ka
band hai dil turra-e-zartaar ka

jee phansa hai ja ke us zulfon ke beech
dil shaheed us nargis-e-beemaar ka

pech mein hoon tere dhīle pech soon
mahav hoon is cheera-e-zartaar ka

tujh ko hai ham se judaai aarzoo
mere dil mein shauq hai deedaar ka

kyun na baandhe dil ko faaez zulf soon
shauq hai kaafir ke teen zunnar ka

पेच भाया मुझ को तुझ दस्तार का
बंद है दिल तुर्रा-ए-ज़रतार का

जी फँसा है जा के उस ज़ुल्फ़ों के बीच
दिल शहीद उस नर्गिस-ए-बीमार का

पेच में हूँ तेरे ढीले पेच सूँ
महव हूँ इस चीरा-ए-ज़रतार का

तुझ को है हम से जुदाई आरज़ू
मेरे दिल में शौक़ है दीदार का

क्यूँ न बाँधे दिल को 'फ़ाएज़' ज़ुल्फ़ सूँ
शौक़ है काफ़िर के तीं ज़ुन्नार का

- Faez Dehlvi
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faez Dehlvi

As you were reading Shayari by Faez Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Faez Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari