darbaar mein ab satwat-e-shaahi ki alaamat | दरबार में अब सतवत-ए-शाही की अलामत - Faiz Ahmad Faiz

darbaar mein ab satwat-e-shaahi ki alaamat
darbaan ka asa hai ki musannif ka qalam hai

aawaara hai phir koh-e-nida par jo basharat
tamheed-e-masarrat hai ki tool-e-shab-e-gham hai

jis dhajji ko galiyon mein liye firte hain tiflaan
ye mera garebaan hai ki lashkar ka alam hai

jis noor se hai shehar ki deewaar darkhshan
ye khun-e-shaheedaan hai ki zar-khaana-e-jam hai

halka kiye baithe raho ik sham'a ko yaaro
kuchh raushni baaki to hai har-chand ki kam hai

दरबार में अब सतवत-ए-शाही की अलामत
दरबाँ का असा है कि मुसन्निफ़ का क़लम है

आवारा है फिर कोह-ए-निदा पर जो बशारत
तम्हीद-ए-मसर्रत है कि तूल-ए-शब-ए-ग़म है

जिस धज्जी को गलियों में लिए फिरते हैं तिफ़्लाँ
ये मेरा गरेबाँ है कि लश्कर का अलम है

जिस नूर से है शहर की दीवार दरख़्शाँ
ये ख़ून-ए-शहीदाँ है कि ज़र-ख़ाना-ए-जम है

हल्क़ा किए बैठे रहो इक शम्अ को यारो
कुछ रौशनी बाक़ी तो है हर-चंद कि कम है

- Faiz Ahmad Faiz
0 Likes

Shehar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faiz Ahmad Faiz

As you were reading Shayari by Faiz Ahmad Faiz

Similar Writers

our suggestion based on Faiz Ahmad Faiz

Similar Moods

As you were reading Shehar Shayari Shayari