humeen se apni nava ham-kalaam hoti rahi | हमीं से अपनी नवा हम-कलाम होती रही - Faiz Ahmad Faiz

humeen se apni nava ham-kalaam hoti rahi
ye teg apne lahu mein niyaam hoti rahi

muqaabil-e-saf-e-aada jise kiya aaghaaz
vo jang apne hi dil mein tamaam hoti rahi

koi maseeha na ifa-e-ahd ko pahuncha
bahut talash pas-e-qatl-e-aam hoti rahi

ye brahman ka karam vo ata-e-sheikh-e-haram
kabhi hayaat kabhi may haraam hoti rahi

jo kuchh bhi ban na pada faiz loot ke yaaron se
to rahzano se dua-o-salaam hoti rahi

हमीं से अपनी नवा हम-कलाम होती रही
ये तेग़ अपने लहू में नियाम होती रही

मुक़ाबिल-ए-सफ़-ए-आदा जिसे किया आग़ाज़
वो जंग अपने ही दिल में तमाम होती रही

कोई मसीहा न ईफ़ा-ए-अहद को पहुँचा
बहुत तलाश पस-ए-क़त्ल-ए-आम होती रही

ये बरहमन का करम वो अता-ए-शैख़-ए-हरम
कभी हयात कभी मय हराम होती रही

जो कुछ भी बन न पड़ा 'फ़ैज़' लुट के यारों से
तो रहज़नों से दुआ-ओ-सलाम होती रही

- Faiz Ahmad Faiz
0 Likes

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faiz Ahmad Faiz

As you were reading Shayari by Faiz Ahmad Faiz

Similar Writers

our suggestion based on Faiz Ahmad Faiz

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari