kuchh mohtasibon ki khilwat mein kuchh wa'iz ke ghar jaati hai | कुछ मोहतसिबों की ख़ल्वत में कुछ वाइ'ज़ के घर जाती है - Faiz Ahmad Faiz

kuchh mohtasibon ki khilwat mein kuchh wa'iz ke ghar jaati hai
ham baada-kashon ke hisse ki ab jaam mein kam-tar jaati hai

yun arz-o-talab se kam ai dil patthar dil paani hote hain
tum laakh raza ki khoo daalo kab khoo-e-sitamgar jaati hai

bedaad-garon ki basti hai yaa daad kahaan khairaat kahaan
sar phodti phirti hai naadaan fariyaad jo dar dar jaati hai

haan jaan ke ziyaan ki ham ko bhi tashveesh hai lekin kya kijeye
har rah jo udhar ko jaati hai maqtal se guzar kar jaati hai

ab koocha-e-dil-bar ka rah-rau rehzan bhi bane to baat bane
pahre se adoo talte hi nahin aur raat barabar jaati hai

ham ahl-e-qafas tanhaa bhi nahin har roz naseem-e-subh-e-watan
yaadon se moattar aati hai ashkon se munavvar jaati hai

कुछ मोहतसिबों की ख़ल्वत में कुछ वाइ'ज़ के घर जाती है
हम बादा-कशों के हिस्से की अब जाम में कम-तर जाती है

यूँ अर्ज़-ओ-तलब से कम ऐ दिल पत्थर दिल पानी होते हैं
तुम लाख रज़ा की ख़ू डालो कब ख़ू-ए-सितमगर जाती है

बेदाद-गरों की बस्ती है याँ दाद कहाँ ख़ैरात कहाँ
सर फोड़ती फिरती है नादाँ फ़रियाद जो दर दर जाती है

हाँ जाँ के ज़ियाँ की हम को भी तशवीश है लेकिन क्या कीजे
हर रह जो उधर को जाती है मक़्तल से गुज़र कर जाती है

अब कूचा-ए-दिल-बर का रह-रौ रहज़न भी बने तो बात बने
पहरे से अदू टलते ही नहीं और रात बराबर जाती है

हम अहल-ए-क़फ़स तन्हा भी नहीं हर रोज़ नसीम-ए-सुब्ह-ए-वतन
यादों से मोअत्तर आती है अश्कों से मुनव्वर जाती है

- Faiz Ahmad Faiz
0 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faiz Ahmad Faiz

As you were reading Shayari by Faiz Ahmad Faiz

Similar Writers

our suggestion based on Faiz Ahmad Faiz

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari