badan pe jis ke sharaafat ka pairhan dekha | बदन पे जिस के शराफ़त का पैरहन देखा - Gopaldas Neeraj

badan pe jis ke sharaafat ka pairhan dekha
vo aadmi bhi yahan hum ne bad-chalan dekha

khareedne ko jise kam thi daulat-e-duniya
kisi kabeer ki mutthi mein vo ratan dekha

mujhe mila hai wahan apna hi badan zakhmi
kahi jo teer se ghaayal koi hiran dekha

bada na chhota koi farq bas nazar ka hai
sabhi pe chalte samay ek sa kafan dekha

zabaan hai aur bayaan aur us ka matlab aur
ajeeb aaj ki duniya ka vyaakaran dekha

lutere daaku bhi apne pe naaz karne lage
unhonne aaj jo santon ka aacharan dekha

jo saadgi hai kuhan mein hamaare ai neeraj
kisi pe aur bhi kya aisa baankpan dekha

बदन पे जिस के शराफ़त का पैरहन देखा
वो आदमी भी यहाँ हम ने बद-चलन देखा

ख़रीदने को जिसे कम थी दौलत-ए-दुनिया
किसी कबीर की मुट्ठी में वो रतन देखा

मुझे मिला है वहाँ अपना ही बदन ज़ख़्मी
कहीं जो तीर से घायल कोई हिरन देखा

बड़ा न छोटा कोई फ़र्क़ बस नज़र का है
सभी पे चलते समय एक सा कफ़न देखा

ज़बाँ है और बयाँ और उस का मतलब और
अजीब आज की दुनिया का व्याकरन देखा

लुटेरे डाकू भी अपने पे नाज़ करने लगे
उन्होंने आज जो संतों का आचरन देखा

जो सादगी है कुहन में हमारे ऐ 'नीरज'
किसी पे और भी क्या ऐसा बाँकपन देखा

- Gopaldas Neeraj
7 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gopaldas Neeraj

As you were reading Shayari by Gopaldas Neeraj

Similar Writers

our suggestion based on Gopaldas Neeraj

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari