jab chale jaayenge laut ke saawan ki tarah | जब चले जाएंगे लौट के सावन की तरह - Gopaldas Neeraj

jab chale jaayenge laut ke saawan ki tarah
yaad aayenge pratham pyaar ke chumban ki tarah

zikr jis dam bhi chhida unki gali mein mera
jaane sharmaae vo kyun gaanv ki dulhan ki tarah

koi kanghi na mili jisse suljh paati vo
zindagi uljhi rahi brahma ke darshan ki tarah

daagh mujhmein hai ki tujhmein yah pata tab hoga
maut jab aayegi kapde liye dhoban ki tarah

har kisi shakhs ki kismat ka yahi hai kissa
aaye raja ki tarah jaaye vo nirdhan ki tarah

jismein insaan ke dil ki na ho dhadkan ki neeraj
shayari to hai woh akhbaar ki katran ki tarah

जब चले जाएंगे लौट के सावन की तरह
याद आएंगे प्रथम प्यार के चुम्बन की तरह

ज़िक्र जिस दम भी छिड़ा उनकी गली में मेरा
जाने शरमाए वो क्यों गांव की दुल्हन की तरह

कोई कंघी न मिली जिससे सुलझ पाती वो
ज़िन्दगी उलझी रही ब्रह्म के दर्शन की तरह

दाग़ मुझमें है कि तुझमें यह पता तब होगा
मौत जब आएगी कपड़े लिए धोबन की तरह

हर किसी शख़्स की किस्मत का यही है किस्सा
आए राजा की तरह ,जाए वो निर्धन की तरह

जिसमें इन्सान के दिल की न हो धड़कन की 'नीरज'
शायरी तो है वह अख़बार की कतरन की तरह

- Gopaldas Neeraj
2 Likes

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gopaldas Neeraj

As you were reading Shayari by Gopaldas Neeraj

Similar Writers

our suggestion based on Gopaldas Neeraj

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari