mitne waali hasratein ijaad kar leta hoon main | मिटने वाली हसरतें ईजाद कर लेता हूँ मैं - Hafeez Jalandhari

mitne waali hasratein ijaad kar leta hoon main
jab bhi chaahoon ik jahaan aabaad kar leta hoon main

mujh ko in majbooriyon par bhi hai itna ikhtiyaar
aah bhar leta hoon main fariyaad kar leta hoon main

husn be-chaara to ho jaata hai akshar meherbaan
phir use aamaada-e-be-daad kar leta hoon main

tu nahin kehta magar dekh o wafa-na-aashnaa
apni hasti kis qadar barbaad kar leta hoon main

haan ye veeraana ye dil ye aarzooon ka mazaar
tum kaho to phir ise aabaad kar leta hoon main

jab koi taaza museebat tootti hai ai hafiz
ek aadat hai khuda ko yaad kar leta hoon main

मिटने वाली हसरतें ईजाद कर लेता हूँ मैं
जब भी चाहूँ इक जहाँ आबाद कर लेता हूँ मैं

मुझ को इन मजबूरियों पर भी है इतना इख़्तियार
आह भर लेता हूँ मैं फ़रियाद कर लेता हूँ मैं

हुस्न बे-चारा तो हो जाता है अक्सर मेहरबाँ
फिर उसे आमादा-ए-बे-दाद कर लेता हूँ मैं

तू नहीं कहता मगर देख ओ वफ़ा-ना-आश्ना
अपनी हस्ती किस क़दर बर्बाद कर लेता हूँ मैं

हाँ ये वीराना ये दिल ये आरज़ूओं का मज़ार
तुम कहो तो फिर इसे आबाद कर लेता हूँ मैं

जब कोई ताज़ा मुसीबत टूटती है ऐ 'हफ़ीज़'
एक आदत है ख़ुदा को याद कर लेता हूँ मैं

- Hafeez Jalandhari
0 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Jalandhari

As you were reading Shayari by Hafeez Jalandhari

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Jalandhari

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari