jab se tu ne mujhe deewaana bana rakha hai | जब से तू ने मुझे दीवाना बना रक्खा है - Hakeem Nasir

jab se tu ne mujhe deewaana bana rakha hai
sang har shakhs ne haathon mein utha rakha hai

us ke dil par bhi kaddi ishq mein guzri hogi
naam jis ne bhi mohabbat ka saza rakha hai

pattharon aaj mere sar pe barsate kyun ho
main ne tum ko bhi kabhi apna khuda rakha hai

ab meri deed ki duniya bhi tamaashaai hai
tu ne kya mujh ko mohabbat mein bana rakha hao

pee ja ayyaam ki talkhi ko bhi hans kar naasir
gham ko sahne mein bhi qudrat ne maza rakha hai

जब से तू ने मुझे दीवाना बना रक्खा है
संग हर शख़्स ने हाथों में उठा रक्खा है

उस के दिल पर भी कड़ी इश्क़ में गुज़री होगी
नाम जिस ने भी मोहब्बत का सज़ा रक्खा है

पत्थरों आज मिरे सर पे बरसते क्यूँ हो
मैं ने तुम को भी कभी अपना ख़ुदा रक्खा है

अब मिरी दीद की दुनिया भी तमाशाई है
तू ने क्या मुझ को मोहब्बत में बना रक्खा हैॉ

पी जा अय्याम की तल्ख़ी को भी हँस कर 'नासिर'
ग़म को सहने में भी क़ुदरत ने मज़ा रक्खा है

- Hakeem Nasir
0 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hakeem Nasir

As you were reading Shayari by Hakeem Nasir

Similar Writers

our suggestion based on Hakeem Nasir

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari