nazzara-e-paiham ka sila mere liye hai | नज़्ज़ारा-ए-पैहम का सिला मेरे लिए है - Hasrat Mohani

nazzara-e-paiham ka sila mere liye hai
har samt vo rukh jalwa-numa mere liye hai

us chehra-e-anwar ki ziya mere liye hai
vo zulf-e-siyah taab-e-dota mere liye hai

zinhaar agar ahl-e-hawas tujh pe fida hoon
ye martaba-e-sadaq-o-safa mere liye hai

ban kar main razakaar muhayyaaye-fana hoon
aawaaza-e-haq baang-e-dara mere liye hai

khushnoodi-e-fuzzaar ke pairav hain yazidi
taqleed-e-shah-e-karb-o-bala mere liye hai

mahroom hoon majboor hoon be-taab-o-tavaan hoon
makhsoos tire gham ka maza mere liye hai

sarmaaya-e-raahat hai fana ki mujhe talkhi
is zahar mein saamaan-e-baqa mere liye hai

jannat ki havas ho to main kaafir ki pareshaan
us shokh ki khushboo-e-qaba mere liye hai

pehle bhi kuchh ummeed na thi charagaron ko
aur ab to dava hai na dua mere liye hai

mar jaaunga may-khaane se nikla jo kabhi main
nazzara-may rooh-faza mere liye hai

tashkhis-e-tabeebaan pe hasi aati hai hasrat
ye dard-e-jigar hai ki dava mere liye hai

नज़्ज़ारा-ए-पैहम का सिला मेरे लिए है
हर सम्त वो रुख़ जल्वा-नुमा मेरे लिए है

उस चेहरा-ए-अनवर की ज़िया मेरे लिए है
वो ज़ुल्फ़-ए-सियह ताब-ए-दोता मेरे लिए है

ज़िन्हार अगर अहल-ए-हवस तुझ पे फ़िदा हूँ
ये मर्तबा-ए-सदक़-ओ-सफ़ा मेरे लिए है

बन कर मैं रज़ाकार मुहय्याए-फ़ना हूँ
आवाज़ा-ए-हक़ बाँग-ए-दरा मेरे लिए है

ख़ुशनूदी-ए-फ़ुज्जार के पैरव हैं यज़ीदी
तक़लीद-ए-शह-ए-कर्ब-ओ-बला मेरे लिए है

महरूम हूँ मजबूर हूँ बे-ताब-ओ-तवाँ हूँ
मख़्सूस तिरे ग़म का मज़ा मेरे लिए है

सरमाया-ए-राहत है फ़ना की मुझे तल्ख़ी
इस ज़हर में सामान-ए-बक़ा मेरे लिए है

जन्नत की हवस हो तो मैं काफ़िर कि परेशाँ
उस शोख़ की ख़ुशबू-ए-क़बा मेरे लिए है

पहले भी कुछ उम्मीद न थी चारागरों को
और अब तो दवा है न दुआ मेरे लिए है

मर जाऊँगा मय-ख़ाने से निकला जो कभी मैं
नज़्ज़ारा-मय रूह-फ़ज़ा मेरे लिए है

तशख़ीस-ए-तबीबाँ पे हँसी आती है 'हसरत'
ये दर्द-ए-जिगर है कि दवा मेरे लिए है

- Hasrat Mohani
0 Likes

Jannat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Jannat Shayari Shayari