aap ne qadr kuchh na ki dil ki | आप ने क़द्र कुछ न की दिल की - Hasrat Mohani

aap ne qadr kuchh na ki dil ki
ud gai muft mein hasi dil ki

khoo hai az-bas ki aashiqi dil ki
gham se waabasta hai khushi dil ki

yaad har haal mein rahe vo mujhe
al-gharz baat rah gai dil ki

mil chuki ham ko un se daad-e-wafa
jo nahin jaante lagi dil ki

chain se mahw-e-khwab-e-naaz mein vo
bekli ham ne dekh li dil ki

hama-tan sarf-hoshiyaari-e-ishq
kuchh ajab shay hai be-khudi dil ki

un se kuchh to mila vo gham hi sahi
aabroo kuchh to rah gai dil ki

mar mite ham na ho saki poori
aarzoo tum se ek bhi dil ki

vo jo bigde raqeeb se hasrat
aur bhi baat ban gai dil ki

आप ने क़द्र कुछ न की दिल की
उड़ गई मुफ़्त में हँसी दिल की

ख़ू है अज़-बस कि आशिक़ी दिल की
ग़म से वाबस्ता है ख़ुशी दिल की

याद हर हाल में रहे वो मुझे
अल-ग़रज़ बात रह गई दिल की

मिल चुकी हम को उन से दाद-ए-वफ़ा
जो नहीं जानते लगी दिल की

चैन से महव-ए-ख़्वाब-ए-नाज़ में वो
बेकली हम ने देख ली दिल की

हमा-तन सर्फ़-होश्यारी-ए-इश्क़
कुछ अजब शय है बे-ख़ुदी दिल की

उन से कुछ तो मिला वो ग़म ही सही
आबरू कुछ तो रह गई दिल की

मर मिटे हम न हो सकी पूरी
आरज़ू तुम से एक भी दिल की

वो जो बिगड़े रक़ीब से 'हसरत'
और भी बात बन गई दिल की

- Hasrat Mohani
1 Like

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari