but-e-be-dard ka gham monis-e-hijraan nikla | बुत-ए-बे-दर्द का ग़म मोनिस-ए-हिज्राँ निकला - Hasrat Mohani

but-e-be-dard ka gham monis-e-hijraan nikla
dard jaana tha jise ham ne vo darmaan nikla

aankh jab band hui tab khuliin aankhen apni
bazm-e-yaaraan jise samjhe the vo zindaan nikla

hasrat-o-yaas ka amboh fugaan ki kasrat
main tiri bazm se kya ba-sar-o-saamaan nikla

khoon ho kar to ye dil aankh se barson tapka
na koi par dil-e-naakaam ka armaan nikla

aaina paikar-e-tasveer nigah-e-mushtaqa
jise dekha tiri mehfil mein vo hairaan nikla

mujh ko hairat hai hua kya dam-e-rukhsat hamdam
jaan nikli mere pahluu se ki jaanaan nikla

khoob dozakh ki museebat se bache ham hasrat
is ka daroga wahi yaar ka darbaan nikla

बुत-ए-बे-दर्द का ग़म मोनिस-ए-हिज्राँ निकला
दर्द जाना था जिसे हम ने वो दरमाँ निकला

आँख जब बंद हुई तब खुलीं आँखें अपनी
बज़्म-ए-याराँ जिसे समझे थे वो ज़िंदाँ निकला

हसरत-ओ-यास का अम्बोह फ़ुग़ाँ की कसरत
मैं तिरी बज़्म से क्या बा-सर-ओ-सामाँ निकला

ख़ून हो कर तो ये दिल आँख से बरसों टपका
न कोई पर दिल-ए-नाकाम का अरमाँ निकला

आइना पैकर-ए-तस्वीर निगाह-ए-मुश्ताक़
जिसे देखा तिरी महफ़िल में वो हैराँ निकला

मुझ को हैरत है हुआ क्या दम-ए-रुख़्सत हमदम
जान निकली मिरे पहलू से कि जानाँ निकला

ख़ूब दोज़ख़ की मुसीबत से बचे हम 'हसरत'
इस का दारोग़ा वही यार का दरबाँ निकला

- Hasrat Mohani
0 Likes

Bhai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Bhai Shayari Shayari