chhup ke us ne jo khud-numaai ki | छुप के उस ने जो ख़ुद-नुमाई की - Hasrat Mohani

chhup ke us ne jo khud-numaai ki
intiha thi ye dilrubaaai ki

maail-e-ghamza hai vo chashm-e-siyaah
ab nahin khair paarsaai ki

ham se kyunkar vo aastaana chhute
muddaton jis pe jabha-saai ki

dil ne barson b-justuju-e-kamaal
koocha-e-ishq mein gadaai ki

daam se un ke chhootna to kahaan
yaa havas bhi nahin rihaai ki

kya kiya ye ki ahl-e-shauq ke saath
tu ne ki bhi to bewafaai ki

ho ke naadim vo baithe hain khaamosh
sulh mein shaan hai ladai ki

us taghaful-shiaar se hasrat
ham mein taqat nahin judaai ki

छुप के उस ने जो ख़ुद-नुमाई की
इंतिहा थी ये दिलरुबाई की

माइल-ए-ग़म्ज़ा है वो चश्म-ए-सियाह
अब नहीं ख़ैर पारसाई की

हम से क्यूँकर वो आस्ताना छुटे
मुद्दतों जिस पे जब्हा-साई की

दिल ने बरसों ब-जुस्तुजू-ए-कमाल
कूचा-ए-इश्क़ में गदाई की

दाम से उन के छूटना तो कहाँ
याँ हवस भी नहीं रिहाई की

क्या किया ये कि अहल-ए-शौक़ के साथ
तू ने की भी तो बेवफ़ाई की

हो के नादिम वो बैठे हैं ख़ामोश
सुल्ह में शान है लड़ाई की

उस तग़ाफ़ुल-शिआर से 'हसरत'
हम में ताक़त नहीं जुदाई की

- Hasrat Mohani
0 Likes

Aazaadi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Aazaadi Shayari Shayari