mahroom-e-tarab hai dil-e-dil-geer abhi tak | महरूम-ए-तरब है दिल-ए-दिल-गीर अभी तक - Hasrat Mohani

mahroom-e-tarab hai dil-e-dil-geer abhi tak
baaki hai tire ishq ki taaseer abhi tak

vasl us but-e-bad-khoo ka mayassar nahin hota
waabasta-e-taqdeer hai tadbeer abhi tak

ik baar sooni thi so mere dil mein hai maujood
ai jaan-e-tamanna tiri taqreer abhi tak

seekhi thi jo aaghaaz-e-mohabbat mein qalam ne
baaki hai vo rangeeni-e-tahreer abhi tak

is darja na betaab ho ai shauq-e-shahaadat
hai miyaan mein us shokh ki shamsheer abhi tak

kehne ko to main bhool gaya hoon magar ai yaar
hai khaana-e-dil mein tiri tasveer abhi tak

bhooli nahin dil ko tiri duzdeeda-nigaahi
pahluu mein hai kuchh kuchh khalish-e-teer abhi tak

the haq pe vo be-shak ki na hote to na hota
duniya mein bapaa maatam-e-shabbeer abhi tak

guzre bahut ustaad magar rang-e-asar mein
be-misl hai hasrat sukhan-e-meer abhi tak

महरूम-ए-तरब है दिल-ए-दिल-गीर अभी तक
बाक़ी है तिरे इश्क़ की तासीर अभी तक

वस्ल उस बुत-ए-बद-ख़ू का मयस्सर नहीं होता
वाबस्ता-ए-तक़दीर है तदबीर अभी तक

इक बार सुनी थी सो मिरे दिल में है मौजूद
ऐ जान-ए-तमन्ना तिरी तक़रीर अभी तक

सीखी थी जो आग़ाज़-ए-मोहब्बत में क़लम ने
बाक़ी है वो रंगीनी-ए-तहरीर अभी तक

इस दर्जा न बेताब हो ऐ शौक़-ए-शहादत
है मियान में उस शोख़ की शमशीर अभी तक

कहने को तो मैं भूल गया हूँ मगर ऐ यार
है ख़ाना-ए-दिल में तिरी तस्वीर अभी तक

भूली नहीं दिल को तिरी दुज़दीदा-निगाही
पहलू में है कुछ कुछ ख़लिश-ए-तीर अभी तक

थे हक़ पे वो बे-शक कि न होते तो न होता
दुनिया में बपा मातम-ए-'शब्बीर' अभी तक

गुज़रे बहुत उस्ताद मगर रंग-ए-असर में
बे-मिस्ल है 'हसरत' सुख़न-ए-'मीर' अभी तक

- Hasrat Mohani
0 Likes

DP Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading DP Shayari Shayari