taaseer-e-bark-e-husn jo un ke sukhun mein thi | तासीर-ए-बर्क़-ए-हुस्न जो उन के सुख़न में थी - Hasrat Mohani

taaseer-e-bark-e-husn jo un ke sukhun mein thi
ik larzish-e-khafi mere saare badan mein thi

waan se nikal ke phir na faraaghat hui naseeb
aasoodagi ki jaan tiri anjuman mein thi

ik rang-e-iltifaat bhi us be-rukhi mein tha
ik saadgi bhi us nigah-e-sehr fan mein thi

muhtaaj-e-boo-e-itr na tha jism-e-khoob-e-yaar
khushboo-e-dilbari thi jo us pairhan mein thi

kuchh dil hi bujh gaya hai mera warna aaj kal
kaifiyat-e-bahaar ki shiddat chaman mein thi

maaloom ho gai mere dil ko raah-e-shauq
vo baat pyaar ki jo hunooz us dehan mein thi

gurbat ki subh mein bhi nahin hai vo raushni
jo raushni ki shaam-e-sawaad-e-watan mein thi

aish gudaaz-e-dil bhi gham-e-aashiqi mein tha
ik raahat-e-lateef bhi zimn-e-mahan mein thi

achha hua ki khaatir-e-hasrat se hat gai
haibat si ik jo khatra-e-daar-o-rasan mein thi

तासीर-ए-बर्क़-ए-हुस्न जो उन के सुख़न में थी
इक लर्ज़िश-ए-ख़फ़ी मिरे सारे बदन में थी

वाँ से निकल के फिर न फ़राग़त हुई नसीब
आसूदगी की जान तिरी अंजुमन में थी

इक रंग-ए-इल्तिफ़ात भी उस बे-रुख़ी में था
इक सादगी भी उस निगह-ए-सहर फ़न में थी

मोहताज-ए-बू-ए-इत्र न था जिस्म-ए-ख़ूब-ए-यार
ख़ुशबू-ए-दिलबरी थी जो उस पैरहन में थी

कुछ दिल ही बुझ गया है मिरा वर्ना आज कल
कैफ़ियत-ए-बहार की शिद्दत चमन में थी

मालूम हो गई मिरे दिल को राह-ए-शौक़
वो बात प्यार की जो हुनूज़ उस दहन में थी

ग़ुर्बत की सुब्ह में भी नहीं है वो रौशनी
जो रौशनी कि शाम-ए-सवाद-ए-वतन में थी

ऐश गुदाज़-ए-दिल भी ग़म-ए-आशिक़ी में था
इक राहत-ए-लतीफ़ भी ज़िम्न-ए-महन में थी

अच्छा हुआ कि ख़ातिर-ए-'हसरत' से हट गई
हैबत सी इक जो ख़तरा-ए-दार-ओ-रसन में थी

- Hasrat Mohani
0 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hasrat Mohani

As you were reading Shayari by Hasrat Mohani

Similar Writers

our suggestion based on Hasrat Mohani

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari