raasta kis jagah nahin hota | रास्ता किस जगह नहीं होता - Hastimal Hasti

raasta kis jagah nahin hota
sirf hamko pata nahin hota

ab bhalon ka bhala nahin hota
ab buron ka bura nahin hota

barson rut ke mizaaj sahta hai
ped yun hi bada nahin hota

chhod den raasta hi dar ke hum
ye koi raasta nahin hota

ek naatak hai zindagi yaaro
kaun behrupiya nahin hota

khauf raahon se kislie hasti
haadsa ghar mein kya nahin hota

रास्ता किस जगह नहीं होता
सिर्फ़ हमको पता नहीं होता

अब भलों का भला नहीं होता
अब बुरों का बुरा नहीं होता

बरसों रुत के मिज़ाज सहता है
पेड़ यूँ ही बड़ा नहीं होता

छोड़ दें रास्ता ही डर के हम
ये कोई रास्ता नहीं होता

एक नाटक है ज़िंदगी यारो
कौन बहरुपिया नहीं होता

ख़ौफ़ राहों से किसलिए `हस्ती'
हादसा घर में क्या नहीं होता

- Hastimal Hasti
3 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hastimal Hasti

As you were reading Shayari by Hastimal Hasti

Similar Writers

our suggestion based on Hastimal Hasti

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari